"मिथुन राशि सन्दूक" के अवतरणों में अंतर

सम्पादन सारांश रहित
छो
}}
'''मिथुन राशि''' ज्यौतिष के [[राशिचक्र]] में की तृतीय राशी है। इसका उद्भव [[मिथुन तारामंडल]] से माना जाता है। राशि चक्र की टी सी राशि है राशि का प्रतीक युवा दंपति है यह दूरी सभा वाली राशि है नक्षत्र के तीसरे चरण के मालिक मंगल शुक्र है मंगल और शुक्र माया है जातक के अंदर माया के प्रति भावना पाए जाते हैं जीवनसाथी के प्रति हमेशा शंकर प्रतीत होता है.
[https://rashifal.net/ राशिफल पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें]
 
अपने जीवनसाथी के प्रति हमेशा ही शक्ति बनकर प्रस्तुत होते हैं. साथ ही घरेलू कारणों के चलते कई बार आपस में तनाव भी हो जाता है. मंगल और शुक्र की युति के कारण जातक में स्त्री रोगों को परखने की अद्भुत क्षमता होती है. वाहनों की अच्छी जानकारी रखते हैं नए नए वाहनों और सुख के साधनों के प्रति इनका आकर्षण अत्यधिक होता है.
बेनामी उपयोगकर्ता