"कूलॉम-नियम" के अवतरणों में अंतर

776 बैट्स् जोड़े गए ,  1 वर्ष पहले
सम्पादन सारांश रहित
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन
{{में विलय|स्थिरविद्युत बल|discuss=वार्ता:कूलॉम-नियम#स्थिरविद्युत बल के साथ प्रस्तावित विलय|date=जुलाई 2017}}
[[चित्र:CoulombsLaw.svg|right|thumb|300px|कूलॉम्ब के नियम की मूल संकल्पना को समझाने वाला चित्र]]
'''hello'''
 
'''कूलॉम-नियम''' (Coulomb's law) विद्युत [[आवेश|आवेशों]] के बीच लगने वाले [[स्थिरविद्युत बल]] के बारे में एक नियम है जिसे कूलम्ब नामक फ्रांसीसी वैज्ञानिक ने १७८० के दशक में प्रतिपादित किया था। यह नियम [[विद्युतचुम्बकत्व]] के सिद्धान्त के विकास के लिये आधार का काम किया। यह नियम अदिश रूप में या सदिश रूप में व्यक्त किया जा सकता है। अदिश रूप में यह नियम निम्नलिखित रूप में है-
: ''दो बिन्दु आवेशों के बीच लगने वाला स्थिरविद्युत बल का मान उन दोनों आवेशों के गुणनफल के [[समानुपात|समानुपाती]] होता है तथा उन आवेशों के बीच की दूरी के वर्ग के [[व्युत्क्रमानुपात|व्युत्क्रमानुपाती]] होता है।''
 
इस नियम को अदिश रूप में निम्नलिखित प्रकार से लिख सकते हैं-
F α Qq
तथा
F α 1/r2
 
:<math>F=k_e\frac{q_1 q_2}{r^2},</math>
अब
जहाँ ''k''{{sub|''e''}} [[कूलॉम्ब नियतांक]] है जिसका मान ''k''{{sub|''e''}} ≈ {{val|9e9|u=N⋅m{{sup|2}}⋅C{{sup|−2}}}} होता है।<ref>{{harvnb|Huray|2010|p=7}}</ref> ''q''{{sub|1}} और ''q''{{sub|2}} दोनों आवेशों के चिह्नसहित मान हैं, और ''r'' दोनों आवेशों के बीच की दूरी है। जब दोनों आवेश विपरीत चिह्न के होते हैं तो उनके बीच आकर्षण होता है जबकि दोनों आवेश समान होने पर प्रतिकर्षण होता है।
F= kQq/r2
(जहां k एक नियतांक है)
 
== '''कूलॉम के नियम की सीमाएँ''' ==
* कूलाम्ब का नियम केवल बिंदु आवेशों के लिए ही सत्य है| है।
* यह नियम अधिक दुरीदू के लिए सत्य नहीं है।
 
== इन्हें भी देखें ==