"अरस्तु" के अवतरणों में अंतर

19 बैट्स् नीकाले गए ,  1 वर्ष पहले
(→‎प्लेटो के निधन के बाद: अरस्तु विश्व के महान ज्ञानियों मैं गिने जाते हैं)
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन
 
== प्लेटो के निधन के बाद ==
347 ईस्वी पूर्व में [[प्लेटो]] के निधन के बाद अरस्तु ही अकादमी के नेतृत्व के अधिकारी थे किन्तु [[प्लेटो]] की शिक्षाओं से अलग होने के कारण उन्हें यह अवसर नहीं दिया गया। एत्रानियस के मित्र शाषक ह्र्मियाज के निमंत्रण पर अरस्तु उनके दरबार में चले गये। वो वहाँ पर तीन वर्ष रहे और इस दौरान उन्होंने राजा की भतीजी ह्र्पिलिस नामक महिला से विवाह कर लिया। अरस्तु की ये दुसरी पत्नी थी उससे पहले उन्होंने पिथियस नामक महिला से विवाह किया था जिसके मौत के बाद उन्होंने दूसरा विवाह किया था। इसके बाद उनके यहाँ नेकोमैक्स नामक पुत्र का जन्म हुआ। सबसे ताज्जुब की बात ये है कि अरस्तु के पिता और पुत्र का नाम एक ही था। शायद अरस्तु अपने पिता को बहुत प्रेम करते थे इसी वजह से उनकी याद में उन्होंने अपने पुत्र का नाम भी वही रखा था।अरस्तु विश्व के महान ज्ञानियों मैंज्ञानी गिने जाते हैं
 
== सिकंदर की शिक्षा ==
बेनामी उपयोगकर्ता