"डाक सूचक संख्या": अवतरणों में अंतर

12 बाइट्स जोड़े गए ,  2 वर्ष पहले
छो
2405:204:A20E:D813:0:0:152D:48B0 (Talk) के संपादनों को हटाकर 2401:4900:385B:DF88:E6DE:5A5A:CF06:D888 के आखिरी अवतरण को पूर्ववत किया
(मिन्टू)
टैग: यथादृश्य संपादिका मोबाइल संपादन मोबाइल वेब संपादन
छो (2405:204:A20E:D813:0:0:152D:48B0 (Talk) के संपादनों को हटाकर 2401:4900:385B:DF88:E6DE:5A5A:CF06:D888 के आखिरी अवतरण को पूर्ववत किया)
टैग: वापस लिया
एक विशिष्ट सांख्यिक पहचान प्रदान की जाती है। भारत में पिन कोड में ६ अंकों की संख्या होती है और इन्हें भारतीय डाक विभाग द्वारा छांटा जाता है। पिन प्रणाली को [[१५ अगस्त]] [[१९७२]] को आरंभ किया गया था।<ref name="भा रा पो">[http://bharat.gov.in/pincodes.php भारत के राष्ट्रीय पोस्टल पर]</ref>
 
== 225206८४१४०७ ==
<br />[[चित्र:IndiaPincodeMap.gif|right|thumb|300px|भारत में पिनकोड का वितरण]]
भारत में 9 पिन क्षेत्र हैं। पिनकोड का पहला अंक भारत (देश) के क्षेत्र को दर्शाता है। पहले 2 अंक मिलकर इस क्षेत्र में उपस्थित उपक्षेत्र या डाक वृतों में से किसी एक डाक वृत को दर्शातें हैं। पहले 3 अंक मिलकर छंटाई/राजस्व जिले को दर्शाते हैं जबकि अंतिम 3 अंक सुपुर्दगी करने वाले डाकखाने का प्रतिनिधित्व करते हैं। ये सांख्यिक कूट भौगोलिक क्षेत्र के अनुसार डाक को छांटने का कार्य अत्यन्त सरल बना देते हैं।