"कालिदास" के अवतरणों में अंतर

73 बैट्स् नीकाले गए ,  6 माह पहले
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन
'''[[अभिज्ञान शाकुन्तलम्]]''' कालिदास की दूसरी रचना है जो उनकी जगतप्रसिद्धि का कारण बना। इस नाटक का अनुवाद अंग्रेजी और जर्मन के अलावा दुनिया के अनेक भाषाओं में हुआ है। इसमें राजा [[दुष्यंत]] की कहानी है जो वन में एक परित्यक्त ऋषि पुत्री [[शकुन्तला]] ([[विश्वामित्र]] और [[मेनका]] की बेटी) से प्रेम करने लगता है। दोनों जंगल में [[गंधर्व विवाह]] कर लेते हैं। राजा दुष्यंत अपनी राजधानी लौट आते हैं। इसी बीच ऋषि [[दुर्वासा]] शकुंतला को शाप दे देते हैं कि जिसके वियोग में उसने ऋषि का अपमान किया वही उसे भूल जाएगा। काफी क्षमाप्रार्थना के बाद ऋषि ने शाप को थोड़ा नरम करते हुए कहा कि राजा की अंगूठी उन्हें दिखाते ही सब कुछ याद आ जाएगा। लेकिन राजधानी जाते हुए रास्ते में वह अंगूठी खो जाती है। स्थिति तब और गंभीर हो गई जब शकुंतला को पता चला कि वह गर्भवती है। शकुंतला लाख गिड़गिड़ाई लेकिन राजा ने उसे पहचानने से इनकार कर दिया। जब एक मछुआरे ने वह अंगूठी दिखायी तो राजा को सब कुछ याद आया और राजा ने शकुंतला को अपना लिया। शकुंतला शृंगार रस से भरे सुंदर काव्यों का एक अनुपम नाटक है। कहा जाता है ''काव्येषु नाटकं रम्यं तत्र रम्या शकुन्तला'' (कविता के अनेक रूपों में अगर सबसे सुन्दर नाटक है तो नाटकों में सबसे अनुपम शकुन्तला है।)
 
'''[[विक्रमोर्वशीयम्]]''' एक रहस्यों भरा नाटक है। इसमें पुरूरवा इंद्रलोक की [[अप्सरा]] [[उर्वशी]] से प्रेम करने लगते हैं। पुरूरवा के प्रेम को देखकर उर्वशी भी उनसे प्रेम करने लगती है। [[इंद्र]] की सभा में जब उर्वशी नृत्य करने जाती है तो पुरूरवा से प्रेम के कारण वह वहां अच्छा प्रदर्शन नहीं कर पाती है। इस लिए वह भी पब्जी खेलने लगी इससे इंद्र गुस्से में उसे शापित कर धरती पर भेज देते हैं। हालांकि, उसका प्रेमी अगर उससे होने वाले पुत्र को देख ले तो वह फिर स्वर्ग लौट सकेगी। विक्रमोर्वशीयम् काव्यगत सौंदर्य और शिल्प से भरपूर है।
 
=== महाकाव्य ===
बेनामी उपयोगकर्ता