"श्रेणी:कविताएँ": अवतरणों में अंतर

560 बाइट्स जोड़े गए ,  2 वर्ष पहले
छो
हिन्दी कविता
छो (HotCat द्वारा श्रेणी:काव्य जोड़ी)
छो (हिन्दी कविता)
[[श्रेणी:प्रारूप के अनुसार साहित्य]]
[[श्रेणी:काव्य]]
हिन्दी की कविता-----
 
अपने
----
 
 
दुख जाये जब मन
 
दो अश्क छलका लेना
 
न करना कभी शिकायत
 
न कभी गिला करना
 
तुम मेरे हो, हूँ तुम्हारी मैं
 
फिर अपनों से क्यों
 
अपने मन की कहना
 
कि आता है उन्हें पढ्ना
 
हर बात बिन कहे ही !
 
सीमा असीम
 
17,1,20
15

सम्पादन