"बंकिमचन्द्र चट्टोपाध्याय" के अवतरणों में अंतर

सम्पादन सारांश रहित
{{Infobox writer
| name = बंकिमचन्द्र चट्टोपाध्याय
| native_name = বঙ্কিমচন্দ্র চট্টোপাধ্যায়
| native_name_lang = bn
| image = Bankim Chattapadhyay.jpg
| image_size = 250px
| birth_date = {{birth date|1838|6|27|df=y}}
| birth_place = [[नैहाटी]], [[बंगाल]]
| death_date = {{death date and age|1894|4|8|1838|6|26|df=y}}
| occupation = लेखक, कवि, उपन्यासकार, निबन्धकार, पत्रकार, व्याख्यानकार एवं राजनेता
| death_place = [[कोलकाता]], [[बेंगाल]]
| genre =
| movement = [[बंगाली पुनर्जागरण]]
| language = [[बांग्ला]], [[अंग्रेजी]]
| subject = साहित्य
| alma_mater = [[कोलकाता विश्वविद्यालय]]
| notableworks = ''[[दुर्गेशनन्दिनी]]''<br>''[[कपालकुण्डला]]''<br>''[[देवी चौधुरानी]]''<br>''[[आननद मठ]]''<br>''[[वन्दे मातरम्]]''
| signature= Sign of Bankim Chandra Chattopadhyay.svg
| website = [http://bankim.eduliture.com/ Bankim-Rachanabali administrated by eduliture]
}}
[[चित्र:Bankim Chandra Chattopadhyay.jpg|right | thumb |200px| '''वन्दे मातरम्''' के रचयिता बंकिमचन्द्र चट्टोपाध्याय]]
'''बंकिमचन्द्र चट्टोपाध्याय''' ([[बंगाली]]: বঙ্কিমচন্দ্র চট্টোপাধ্যায়) (२७ जून १८३८ - ८ अप्रैल १८९४) [[बंगाली]] के प्रख्यात [[उपन्यास]]कार, [[कवि]], [[गद्य]]कार और पत्रकार थे। [[भारत]] के राष्ट्रीय गीत '[[वन्दे मातरम्]]' उनकी ही रचना है जो भारतीय स्वतंत्रता संग्राम के काल में क्रान्तिकारियों का प्रेरणास्रोत बन गया था। [[रवीन्द्रनाथ ठाकुर]] के पूर्ववर्ती बांग्ला साहित्यकारों में उनका अन्यतम स्थान है।
बंकिम चन्द्र चट्टोपाध्याय का जन्म उत्तरी चौबीस परगना के कंठालपाड़ा, नैहाटी में एक परंपरागत और समृद्ध बंगाली परिवार में हुआ था। उनकी शिक्षा [[हुगली कॉलेज]] और [[प्रेसीडेंसी कॉलेज]] में हुई। १८५७ में उन्होंने बीए पास किया। प्रेसीडेंसी कालेज से बी. ए. की उपाधि लेनेवाले ये पहले भारतीय थे। शिक्षासमाप्ति के तुरंत बाद डिप्टी मजिस्ट्रेट पद पर इनकी नियुक्ति हो गई। कुछ काल तक बंगाल सरकार के सचिव पद पर भी रहे। रायबहादुर और सी. आई. ई. की उपाधियाँ पाईं।
 
और १८६९ में क़ानून की डिग्री हासिल की। इसके बाद उन्होने सरकारी नौकरी कर ली और १८९१ में सेवानिवृत्त हुए। ८ अप्रैल १८९४ को उनका निधन हुआ।
८ अप्रैल १८९४ को उनका निधन हुआ।
 
== रचनाएँ ==