"स्वतंत्रता दिवस (भारत)" के अवतरणों में अंतर

छो (223.225.134.243 (Talk) के संपादनों को हटाकर InternetArchiveBot के आखिरी अवतरण को पूर्ववत किया)
टैग: प्रत्यापन्न
1929 [[लाहौर]] सत्र में भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस ने [[पूर्ण स्वराज]] घोषणा की और 26 जनवरी को स्वतंत्रता दिवस के रूप में घोषित किया। कांग्रेस ने भारत के लोगों से सविनय अवज्ञा करने के लिए स्वयं प्रतिज्ञा करने व पूर्ण स्वतंत्रता प्राप्ति तक समय-समय पर जारी किए गए कांग्रेस के निर्देशों का पालन करने के लिए कहा।<ref>{{cite book|title=India |trans-title=भारत |url=http://books.google.com/books?id=nHnOERqf-MQC |publisher=कैलिफोर्निया विश्वविद्यालय प्रेस |author=स्टेनली ए॰ वोल्पर्ट |isbn=9780520221727 |year=1999| language = en}}</ref>
 
इस तरह के स्वतंत्रता दिवस समारोह का आयोजन भारतीय नागरिकों के बीच राष्ट्रवादी ईधन झोंकने के लिये किया गया व स्वतंत्रता देने पर विचार करने के लिए ब्रिटिश सरकार को मजबूर करने के लिए भी किया गया।<ref name="rguha">{{cite book|url=http://books.google.com/books?id=2fvd-CaFdqYC |title=India After Gandhi: The History of the World's Largest Democracy |trans-title=गाँधी के बाद का भारत: विश्व के सबसे बड़े लोकतंत्र का इतिहास |publisher=हार्पर कॉलिन्स |year=२००८ |author=रामचन्द्र गुहा |isbn=9780060958589 | language = en}}</ref> कांग्रेस ने 1930 और 1950 के बीच 26 जनवरी को स्वतंत्रता दिवस के रूप में मनाया।<ref>http://books.google.com/books%3Fid%3DIDKoyGjFo44C</ref><ref>{{cite web|title=Why January 26: the history of the day |trans-title=२६ जनवरी ही क्यों: दिन का इतिहास |url=http://www.telegraphindia.com/1120126/jsp/nation/story_15055256.jsp#.Vc90w3Wlyko |publisher=द टेलीग्राफ |author=राधिका रमाशेषन |date=२६ जनवरी २०१२ |accessdate=१५ अगस्त २०१५ | language = en}}</ref> इसमें लोग मिलकर स्वतंत्रता की शपथ लेते थे। जवाहरलाल नेहरू ने अपनी आत्मकथा में इनका वर्णन किया है कि ऐसी बैठकें किसी भी भाषण या उपदेश के बिना, शांतिपूर्ण व गंभीर होती थीं।<ref>{{cite book|url=http://books.google.com/books?id=NFKgAAAAMAAJ |title=Jawaharlal Nehru: An Autobiography |trans-title=जवाहरलाल नेहरू: एक जीवनी |author=जवाहरलाल नेहरू |publisher= बोडली हेड (मूल: इंडियाना यूनिवर्सिटी) |year=१९८९ |isbn=9780370313139| language = en}}</ref> गांधी जी ने कहा कि बैठकों के अलावा, इस दिन को, कुछ रचनात्मक काम करने में खर्च किया जाये जैसे कताई कातना या हिंदुओं और मुसलमानों का पुनर्मिलन या निषेध काम, या अछूतों की सेवा। 1947 में वास्तविक आजादी के बाद <ref>{{cite book|url=http://books.google.com/books?id=1sEmAQAAMAAJ |title=Collected Works |trans-title=संकलित कार्य |author=महात्मा गांधी |publisher=प्रकाशन विभाग, सूचना और प्रसारण मंत्रालय, भारत सरकार (मूल: मिशिगन यूनिवर्सिटी) |year=1970 | language = en}}</ref>,भारत का संविधान 26 जनवरी 1950 को प्रभाव में आया; तब के बाद से 26 जनवरी को [[गणतंत्र दिवस]] के रूप में मनाया जाता है।
india is best contry
 
 
===तात्कालिक पृष्ठभूमि===
बेनामी उपयोगकर्ता