"दादा भाई नौरोजी" के अवतरणों में अंतर

24 बैट्स् जोड़े गए ,  1 वर्ष पहले
संजीव कुमार द्वारा सम्पादित संस्करण 3970474 पर पूर्ववत किया: -। (ट्विंकल)
छो (2409:4053:2E90:D6FA:0:0:1C09:6D0D (Talk) के संपादनों को हटाकर 2402:3A80:1535:6DD1:CED5:C80F:941C:DDF के आखिरी अवतरण को पूर्ववत किया)
टैग: प्रत्यापन्न
(संजीव कुमार द्वारा सम्पादित संस्करण 3970474 पर पूर्ववत किया: -। (ट्विंकल))
टैग: किए हुए कार्य को पूर्ववत करना
|otherparty = [[भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस]]
|birth_date = {{birth date|df=yes|1825|9|4}}
|birth_place = [[Navsariमुम्बई]], ब्रितानी भारत
|death_date = {{death date|df=yes|1917|6|30}} (aged 91)
|death_place = [[मुम्बई]], ब्रितानी भारत
अपने लंबे जीवन में दादाभाई ने देश की सेवा के लिए जो बहुत से कार्य किए उन सबका वर्णन करना स्थानाभाव के कारण यहाँ संभव नहीं है किंतु स्वशासन के लिए अखिल भारतीय कांग्रेस के कलकत्ता अधिवेशन (1906) में उनके द्वारा की गई माँग की चर्चा करना आवश्यक है। उन्होंने अपने भाषण में '''[[स्वराज्य]]''' को मुख्य स्थान दिया। अपने भाषण के दौरान में उन्होंने कहा, ''हम कोई कृपा की याचना नहीं कर रहे हैं, हमें तो केवल न्याय चाहिए। आरंभ से ही अपने प्रयत्नों के दौरान में मुझे इतनी असफलताएँ मिली हैं जो एक व्यक्ति को निराश ही नहीं बल्कि विद्रोही भी बना देने के लिए पर्याप्त थीं, पर मैं हताश नहीं हुआ हूँ और मुझे विश्वास है कि उस थोड़े से समय के भीतर ही, जब तक मै जीवित हूँ, सद्भावना, सचाई तथा संमान से परिपूर्ण स्वयात्त शासन की माँग को परिपूर्ण, करनेवाला संविधान भारत के लिए स्वीकार कर लिया जाएगा।'' उनकी यह आशा उस समय पूरी हुई जब वे सार्वजनिक जीवन से अवकाश ग्रहण कर चुके थे।
 
पूर्व और पश्चिम में कांग्रेसी कार्यकर्ता तथा उनके मित्र भारत की नई पीढ़ी की आशाओं के अनुसार सांवैधानिक सुधारों को मूर्त रूप देने के लिए प्रस्ताव तैयार करने में व्यस्त थे। परंतु 20 अगस्त 1917 की घोषणा के दो महीने पूर्व दादाभाई की मृत्यु हो चुकी थी। इस घोषणा के द्वारा प्रशासनिक सेवाओं में अधिकाधिक भारतीय सहयोग तथा ब्रिटिश साम्राज्य के अंतर्गत क्रमश: भारत में उत्तरदायी शासन के विकास के लिए मार्ग प्रशस्त हुआ। इस प्रकार भारत के इस वयोवृद्ध नेता ने जो माँग की थी, उसकी बहुत कुछ पूर्ति का आश्वासन मिल गया।
 
==सन्दर्भ==