"राजा हरिश्चन्द्र" के अवतरणों में अंतर

1,693 बैट्स् जोड़े गए ,  1 वर्ष पहले
एक तर्क दिया हूँ कि कोई सामान बेंच देने से स्वयं का अधिकार खत्म हो जाता है।
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन
(एक तर्क दिया हूँ कि कोई सामान बेंच देने से स्वयं का अधिकार खत्म हो जाता है।)
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन
 
यज्ञ की समाप्ति सुनकर रोहिताश भी वन से लौट आया और शुन:शेप विश्वामित्र का पुत्र बन गया। [[विश्वामित्र]] के कोप से हरिश्चंद्र तथा उनकी रानी शैव्या को अनेक कष्ट उठाने पड़े। उन्हें काशी जाकर श्वपच के हाथ बिकना पड़ा, पर अंत में रोहिताश की असमय मृत्यु से देवगण द्रवित होकर पुष्पवर्षा करते हैं और राजकुमार जीवित हो उठता है।
इस महान राजा से सम्बन्धित कहानी के विषय मे एक महान तार्किक व्यक्ति रिसुल ने बताया कि विस्वामित्र के कहने पर अपना सब कुछ दान देने के पश्चात दक्छीना देने हेतु पहने अपने पत्नी को पांच सौ स्वर्ण मुद्रा व बच्चे रोहित को सौ स्वर्ण मुद्रा मे बेचने के पश्चात स्वयं को भी पांच सौ स्वर्ण मुद्रा में बेच दिए थे।तब इग्यारह सौ स्वर्ण मुद्रा तैयार किये थे।किंतु व्यापार के नीयम के अनुसार किसी से किसी सामान के बदले पैसा ले ,ले पर वह समान उस पैसा देने वाले अमुक व्यक्ति का हो जाता है।तो ऐसे इस्थित में हरिश्चंद्र जी दक्छीना देने लायक पहले वाले हरिश्चंद्र बचे ही नही थे तो दक्छीना पूर्ण नही हुआ था।ऐसे इस्थित में हरिश्चंद्र का सत्यवादी कहानी से मन बिमुख हो जाता है।
 
== कथा==
बेनामी उपयोगकर्ता