"रामचन्द्र शुक्ल" के अवतरणों में अंतर

सम्पादन सारांश रहित
छो (27.60.32.98 (Talk) के संपादनों को हटाकर Raju Jangid के आखिरी अवतरण को पूर्ववत किया)
टैग: प्रत्यापन्न
 
 
'''आचार्य रामचंद्र शुक्ल''' ([[४ अक्टूबर]], [[१८८४]]- [[२ फरवरी]], [[१९४१]]) [[हिन्दी]] आलोचक, निबन्धकार, साहित्येतिहासकार, कोशकार, अनुवादक, कथाकार और कवि थे। उनके द्वारा लिखी गई सर्वाधिक महत्त्वपूर्ण पुस्तक है '''[[हिंदी साहित्य का इतिहास (पुस्तक)|हिन्दी साहित्य का इतिहास]]''', जिसके द्वारा आज भी काल निर्धारण एवं पाठ्यक्रम निर्माण में सहायता ली जाती है। हिंदीहिन्दी में पाठ आधारित वैज्ञानिक [[आलोचना]] का सूत्रपात उन्हीं के द्वारा हुआ। हिन्दी [[निबन्ध]] के क्षेत्र में भी शुक्ल जी का महत्त्वपूर्ण योगदान है। भाव, मनोविकार सम्बंधित मनोविश्लेषणात्मक निबंध उनके प्रमुख हस्ताक्षर हैं। शुक्ल जी ने इतिहास लेखन में रचनाकार के जीवन और पाठ को समान महत्त्व दिया। उन्होंने प्रासंगिकता के दृष्टिकोण से साहित्यिक प्रत्ययों एवं रस आदि की पुनर्व्याख्या की।
 
== जीवन परिचय ==