"पर्यावरण" के अवतरणों में अंतर

870 बैट्स् नीकाले गए ,  8 माह पहले
AshokChakra (वार्ता) द्वारा सम्पादित संस्करण 4251996 पर पूर्ववत किया। (ट्विंकल)
छो (2409:4052:60A:D830:90C4:FDDC:C4E0:9DF6 (Talk) के संपादनों को हटाकर 2409:4043:2415:6435:91CD:9879:F899:ED03 के आखिरी अवतरण को पूर्ववत किया)
टैग: प्रत्यापन्न SWViewer [1.3]
(AshokChakra (वार्ता) द्वारा सम्पादित संस्करण 4251996 पर पूर्ववत किया। (ट्विंकल))
टैग: किए हुए कार्य को पूर्ववत करना
पर्यावरण शब्द संस्कृत भाषा के 'परि' उपसर्ग (चारों ओर) और 'आवरण' से मिलकर बना है जिसका अर्थ है ऐसी चीजों का समुच्चय जो किसी व्यक्ति या जीवधारी को चारों ओर से आवृत्त किये हुए हैं। पारिस्थितिकी और भूगोल में यह शब्द अंग्रेजी के ''environment'' के पर्याय के रूप में इस्तेमाल होता है।
 
अंग्रेजी शब्द ''environment'' स्वयं उपरोक्त पारिस्थितिकी के अर्थ में काफ़ी बाद में प्रयुक्त हुआ और यह शुरूआती दौर में आसपास की सामान्य दशाओं के लिये प्रयुक्त होता था। यह [[फ़्रांसीसी भाषा]] से उद्भूत है<ref>[https://en.wiktionary.org/wiki/environment अंग्रेजी विक्षनरी]</ref> जहाँ यह "state of being environed" (see environ + -ment) के अर्थ में प्रयुक्त होता था और इसका पहला ज्ञात प्रयोग कार्लाइल द्वारा जर्मन शब्द ''Umgebung'' के अर्थ को फ्रांसीसी में व्यक्त करने के लिये हुआ।<ref>[http://www.etymonline.com/index.php?term=environment Online etymology dictionary]</ref> h HGH hi he uh huh
 
==पर्यावरण का ज्ञान==
शिक्षा मानव-जीवन के बहुमुखी विकास का एक प्रबल साधन है। इसका मुख्य उद्देश्य व्यक्ति के अन्दर शारीरिक, मानसिक, सामाजिक, संस्कृतिक तथा आध्यात्मिक बुद्धी एवं परिपक्वता लाना है। शिक्षा के उद्देश्यों की पूर्ति हेतु प्राकृतिक वातावरण का ज्ञान अति आवश्यक है। प्राकृतिक वातावरण के बारे में ज्ञानार्जन की परम्परा भारतीय संस्कृति में आरम्भ से ही रही है। परन्तु आज के भौतिकवादी युग में परिस्थितियाँ भिन्न होती जा रही हैं। एक ओर जहां विज्ञान एवं तकनीकी के विभिन्न क्षेत्रों में नए-नए अविष्कार हो रहे हैं। तो दूसरी ओर मानव परिवेश भी उसी गति से प्रभावित हो रहा है। आने वाली पीढ़ी को पर्यावरण में हो रहे परिवर्तनों का ज्ञान शिक्षा के माध्यम से होना आवश्यक है। पर्यावरण तथा शिक्षा के अन्तर्सम्बन्धों का ज्ञान हासिल करके कोई भी व्यक्ति इस दिशा में अनेक महत्वपूर्ण कार्य कर सकता है। पर्यावरण का विज्ञान से गहरा सम्बन्ध है, किन्तु उसकी शिक्षा में किसी प्रकार की वैज्ञानिक पेचीदगियाँ नहीं हैं। शिक्षार्थियों को प्रकृति तथा पारिस्थितिक ज्ञान सीधी तथा सरल भाषा में समझायी जानी चाहिए। शुरू-शुरू में यह ज्ञान सतही तौर पर मात्र परिचयात्मक ढंग से होना चाहिए। आगे चलकर इसके तकनीकी पहलुओं पर विचार किया जाना चाहिए। शिक्षा के क्षेत्र में पर्यावरण का ज्ञान मानवीय सुरक्षा के लिए आवश्यक है।
 
=[[ पर्यावरण]] और पारितंत्र =
पर्यावरण अपनी सम्पूर्णता में एक इकाई है जिसमें अजैविक और जैविक संघटक आपस में विभिन्न अन्तर्क्रियाओं द्वारा संबद्ध और अंतर्गुम्फित होते हैं। इसकी यह विशेषता इसे एक [[पारितंत्र]] का रूप प्रदान करती है क्योंकि पारिस्थितिक तंत्र या पारितंत्र पृथ्वी के किसी क्षेत्र में समस्त जैविक और अजैविक तत्वों के अंतर्सम्बंधित समुच्चय को कहते हैं। अतः पर्यावरण भी एक पारितंत्र है।<ref>सविन्द्र सिंह, ''जैव भूगोल'', प्रयाग पुस्तक भवन</ref>
 
पृथ्वी पर पैमाने (scale) के हिसाब से सबसे वृहत्तम पारितंत्र [[जैवमंडल]] को माना जाता है। जैवमंडल पृथ्वी का वह भाग है जिसमें जीवधारी पाए जाते हैं और यह स्थलमंडल, जलमण्डल तथा वायुमण्डल में व्याप्त है। पूरे पार्थिव पर्यावरण की रचना भी इन्हीं इकाइयों से हुई है, अतः इन अर्थों में वैश्विक पर्यावरण, जैवमण्डल और पार्थिव पारितंत्र एक दूसरे के समानार्थी हो जाते हैं।
 
माना जाता है कि पृथ्वी के वायुमण्डल का वर्तमान संघटन और इसमें ऑक्सीजन की वर्तमान मात्रा पृथ्वी पर जीवन होने का कारण ही नहीं अपितु परिणाम भी है। प्रकाश-संश्लेषण, जो एक जैविक (या पारिस्थितिकीय अथवा जैवमण्डलीय) प्रक्रिया है, पृथ्वी के वायुमण्डल के गठन को प्रभावित करने वाली महत्वपूर्ण प्रक्रिया रही है। इस प्रकार के चिंतन से जुड़ी विचारधारा पूरी पृथ्वी को एक इकाई ''गया[[गाया संकल्पना|गाया]]''<ref>[http://www.oxforddictionaries.com/definition/english/Gaia गाया परिकल्पना], ऑक्सफोर्ड डिक्शनरी पर (अभिगमन तिथि 05-08-2014)</ref> या सजीव पृथ्वी (living earth) के रूप में देखती है।<ref>Lovelock, J.E. (1 अगस्त 1972). "Gaia as seen through the atmosphere". Atmospheric Environment (1967) (Elsevier) 6 (8): 579–580. </ref>
 
इसी प्रकार मनुष्य के ऊपर पर्यवारण के प्रभाव और मनुष्य द्वारा पर्यावरण पर डाले गये प्रभावों का अध्ययन [[मानव पारिस्थितिकी]] और [[मानव भूगोल]] का प्रमुख अध्ययन बिंदु है।<ref>Richards, Ellen H. (1907 (2012 reprint))[http://www.amazon.com/Sanitation-Daily-Life-Classic-Reprint/dp/B008KX8KGA#reader_B008KX8KGA Sanitation in Daily Life], Forgotten Books. pp. v.</ref><ref>आर॰ डी॰ दीक्षित, [http://books.google.co.in/books?id=UfDTzGHjWLwC&lpg=PA253&ots=fxaJ8z8Kf_&dq=%E0%A4%AE%E0%A4%BE%E0%A4%A8%E0%A4%B5%20%E0%A4%AA%E0%A4%BE%E0%A4%B0%E0%A4%BF%E0%A4%B8%E0%A5%8D%E0%A4%A5%E0%A4%BF%E0%A4%A4%E0%A4%BF%E0%A4%95%E0%A5%80&pg=PA253#v=onepage&q=%E0%A4%AE%E0%A4%BE%E0%A4%A8%E0%A4%B5%20%E0%A4%AA%E0%A4%BE%E0%A4%B0%E0%A4%BF%E0%A4%B8%E0%A5%8D%E0%A4%A5%E0%A4%BF%E0%A4%A4%E0%A4%BF%E0%A4%95%E0%A5%80&f=false भौगोलिक चिंतन का विकास] पृष्ठ सं॰ 253, गूगल पुस्तक (अभिगमन तिथि 25-07-2014)</ref><ref>हार्लेन एच॰ बैरोज, (1923), ''Geography as Human Ecology'', Annals of the Association of American Geographers, 13(1):1-14</ref>
हमारे जीवन मे हमने बहुत सारे परिवर्तन देखे है जल वायु परिवर्तन उन्ही मे से एक है जल वायु परिवर्तन के कारण ही पृथ्वी पर मौसम परिवर्तन होता है मौसम से हमे बहुत लाभ हो ता है मोसम के बिना कोई फसल नही उगाई जा सकती एवं ना ही मनुष्य जीवन एक मौसम मे गुजार सकता है समस्त जीव धारी को को मौसम की जरूरत होती है जलवायु परिवर्तन से हमे लाभ भी है तो नुकसान भी क्योंकि
 
=== जैवविविधता ह्रास ===
==='''<u>जैवविविधता ह्रास</u>''' - '''जैव विविधता जीवन और विविधता के संयोग से निर्मित शब्द है जो आम तौर पर पृथ्वी पर मौजूद जीवन की विविधता और परिवर्तनशीलता को संदर्भित करता है। संयुक्त राष्ट्र पर्यावरण कार्यक्रम (युएनईपी), के अनुसार जैवविविधता biodiversity विशिष्टतया अनुवांशिक, प्रजाति, तथा पारिस्थितिकि तंत्र के विविधता का स्तर मापता है।'''===
 
=== प्राकृतिक आपदाएँ===
इनमें चक्रवात, तेज तूफान, अत्यधिक बारिश,ओला सूखा आदि शामिल है।
 
== पर्यावरण संरक्षण ==
{{मुख्य|पर्यावरण संरक्षण|}}
 
== पर्यावरण प्रबंधन ==
{{मुख्य|पर्यावरण प्रबंधन}}
 
 
== भारतीय संस्कृति में पर्यावरण चिंतन ==
भारतीय संस्कृति में पर्यावरण को विशेष महत्त्व दिया गया है। प्राचीन काल से ही भारतीय संस्कृति में पर्यावरण के अनेक घटकों जैसे वृक्षों को पूज्य मानकर उन्हें पूजा जाता है।तुलसी को पवित्र मानकर पूजा की जाती हैहै। पीपल के वृक्ष को पवित्र माना जाता है। वट के वृक्ष की भी पूजा होती है। जल, वायु, अग्नि को भी देव मानकर उनकी पूजा की जाती है। समुद्र, नदी को भी पूजन करने योग्य माना गया है। गंगा, सिंधु, सरस्वती, यमुना, गोदावरी, नर्मदा जैसी नदीयों को पवित्र मानकर पूजा की जाती है। धरती को भी माता का दर्जा दिया गया है। प्राचीन काल से ही भारत में पर्यावरण के विविध स्वरुपों की पूजा होती है।<ref>http://hindi.speakingtree.in/spiritual-articles/science-of-spirituality/content-246889</ref><ref>http://hi.vikaspedia.in/rural-energy/policy-support/92d93e930924-915940-92a93094d92f93e935930923-92894092493f</ref><ref>http://m.jagran.com/uttar-pradesh/varanasi-city-11365556.html</ref>
 
== पर्यावरण विज्ञान ==
 
== इन्हें भी देखें==
{{Div col|13}}
*[[पर्यावरण विज्ञान]]
*[[पर्यावरणीय अध्ययन]]