"महाशिवरात्रि" के अवतरणों में अंतर

821 बैट्स् जोड़े गए ,  1 वर्ष पहले
छो
एक छोटा सा जानकारी सम्लित किये गये हैं
छो (एक छोटा सा जानकारी सम्लित किये गये हैं)
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन यथादृश्य संपादिका
'''महाशिवरात्रि''' [[हिन्दू|हिन्दुओं]] का एक प्रमुख त्यौहार है। यह भगवान [[शिव]] का प्रमुख पर्व है।
 
फाल्गुन कृष्ण चतुर्दशी को [https://jankariya.com/mahashivratri-in-hindi/ महाशिवरात्रि पर्व] मनाया जाता है। माना जाता है कि सृष्टि का प्रारंभ इसी दिन से हुआ। पौराणिक कथाओं के अनुसार इस दिन सृष्टि का आरम्भ अग्निलिंग ( जो महादेव का विशालकाय स्वरूप है ) के उदय से हुआ। इसी दिन भगवान शिव का विवाह देवी पार्वती के साथ हुआ था। साल में होने वाली 12 शिवरात्रियों में से महाशिवरात्रि सबसे महत्वपूर्ण माना जाता है|<ref>{{cite web|last=ShivShankar.in|title=Maha Shivaratri|url=http://www.shivshankar.in/maha-shivaratri/|work=Maha Shivaratri|publisher=ShivShankar.in}}</ref>भारत सहित पूरी दुनिया में महाशिवरात्रि का पावन पर्व बहुत ही उत्साह के साथ मनाया जाता है|<ref>{{Cite web|url=https://www.thehinduopinion.com/2020/01/mahashivratri-best-photos-and-wallpaper.html|title=महाशिवरात्रि की फोटो या वॉलपेपर {{!}} Mahashivratri best photos and wallpaper|website=THE HINDU OPINION|access-date=2020-02-01}}</ref>
 
'''[https://jankariya.com/mahashivratri-in-hindi/ महाशिवरात्रि का महत्व]''' ईशान संहिता के मुताबिक महाशिवरात्रि के दिन ज्यितिर्लिंग के रूप में शिव प्रकट हुए थे। इसलिए इस पर्व को महाशिवरात्रि के रूप में मनाते हैं। कहते हैं कि महाशिवरात्रि के व्रत से जीवन में पाप और भाग का नाश होता है। इसलिए इस व्रत को व्रतों का राजा कहा गया है।
 
कश्मीर शैव मत में इस त्यौहार को ''हर-रात्रि'' और बोलचाल में 'हेराथ' या 'हेरथ' भी कहा जाता हैं।<ref name=brunn402>{{cite book|author=Stanley D. Brunn|title=The Changing World Religion Map: Sacred Places, Identities, Practices and Politics|url=https://books.google.com/books?id=CGh-BgAAQBAJ&pg=PA403| year= 2015|publisher= Springer|isbn= 978-94-017-9376-6|pages= 402–403}}</ref><ref name=maitra125>{{cite book|author=Asim Maitra|title=Religious Life of the Brahman: A Case Study of Maithil Brahmans|url=https://books.google.com/books?id=f3LXAAAAMAAJ|year= 1986|publisher= Munshilal|isbn= 978-81-210-0171-7|page= 125}}</ref>
7

सम्पादन