"वशिष्ठ" के अवतरणों में अंतर

2,232 बैट्स् जोड़े गए ,  1 वर्ष पहले
जानकारी
(जानकारी)
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन
{{ऋषि}}{{ऋग्वेद}}
[[श्रेणी:ऋषि मुनि]]
[[श्रेणी:ऋग्वेद]]
( अग्निगोत्र ऋषि वशिष्ठ भगवान राम के कुल गुरु थे जिनको रघुवंशी राजगुरु कहा जाता है....इतिहासकार बताते है की कालांतर मे ऋषि वशिष्ठ द्वारा माउंट आबू पर्वत पर यज्ञ किया जिससे अग्निकुंड मे 4 राजपूत वंशों एवं एक राजगुरु वंश की उत्पति की ... राजगुरु परमार राजपूत ,चौहान राजपूत, सोलकिं राजपूत, पड़िहार राजपूत इन राजपूतों के गुरु राजगुरु कहलाये जो मारवाड मे राजपुरोहित जाती के राजगुरु गोत्र के नाम से ख्याति पायी है . इस प्रकार.... मध्यकालिन युग मे परमारो की राजधानियां राजस्थान के जूना केराडु बाडमेर, अर्थुना बांसवाडा ,गुजरात और मध्यपरदेश आदि जगह अपना शासन् किया तथा अग्निवंशी राजपूतो के राजगुरु कहलाये जिनको मारवाड मे परमार राजपूतो द्वारा जागीरी देने से जागीरदार कहलाये .! राजगुरुओ की कुलदेवी मा कुबड है जो विद्या की देवी मा सरस्वती का अवतार है.... !अंजारी सिरोही राजगुरुओ की स्थाई राजधानी है!
शहिद राजगुरु जो भगत सिंह के साथ थे वो इन्ही वंश से संबंध रखते है.... जय हिंद
1

सम्पादन