"गैसों का अणुगति सिद्धान्त": अवतरणों में अंतर

छो
बॉट: पुनर्प्रेषण ठीक कर रहा है
No edit summary
टैग: यथादृश्य संपादिका मोबाइल संपादन मोबाइल वेब संपादन
छो (बॉट: पुनर्प्रेषण ठीक कर रहा है)
[[चित्र:Translational motion.gif|thumb|right|300px|किसी आदर्श एक-परमाणवीय गैस का ताप उसके परमाणुओं की औसत गतिज उर्जा का परोक्ष मापन है। इस एनिमेशन में गैस के परमाणुओ, उनके बीच की दूरी एवं परमाणुओं के चाल को वास्तविक मान से कम या ज्यादा रखा गया है ताकि देखकर समझने में सुविधा हो।]]
 
'''गैसों का अणुगति सिद्धान्त''' (kinetic theory of gases) [[गैस|गैसों]] के समष्टिगत (मैक्रोस्कोपिक) गुणों ([[दाब]], [[तापमान|ताप]] आदि) को समझने के लिये एक सरलीकृत [[भौतिक मॉडल|मॉडल]] है। सार रूप में यह सिद्धान्त कहता है कि गैसों का दाब उनके अणुओं के बीच के स्थैतिक प्रतिकर्षण (static repulsion) के कारण '''नहीं''' है (जैसा कि [[न्यूटन (इकाई)|न्यूटन]] का विचार था), बल्कि गतिशील अणुओं के आपसी टकराव (collision) का परिणाम है।
 
== अणुगति सिद्धान्त की मान्यताएँ (Postulates) ==
* [[विशिष्ट आपेक्षिकता|आपेक्षिक प्रभाव]] नगण्य हैं।
 
* [[क्वाण्टमप्रमात्रा यांत्रिकीयान्त्रिकी|क्वाण्टम यांत्रिक]] प्रभाव नगण्य हैं। इसका अर्थ यह हुआ कि कणों के बीच की दूरी [[डी ब्रागली तरंगदैर्घ्य]] की तुलना में बहुत अधिक है और अणुओं को [[चिरसम्मत यांत्रिकी]] के पिण्डों की तरह माना जा सकता है।
 
* बर्तन की दीवारों के साथ अणुओं के संघट्ट का समय, दो संघट्टों के बीच के औसत समय की तुलना में नगण्य है।
जहाँ:
: <math> \langle E_k\rangle </math> – अणु की औसत गतिज उर्जा
: ''k'' – [[बोल्ट्समान नियतांक|बोल्ट्जमैन नियतांक]]
: ''i'' – वह संख्या है जो गैस के अणुओं की स्वतंत्रता की सीमा (डिग्री ऑफ फ्रीडम) को व्यक्त करती है। T=?
 
 
== इन्हें भी देखें ==
* [[गैसों के नियम|गैस के नियम]]
* [[बोल्टमैन का समीकरण]]
* [[क्रांतिक बिन्दु|क्रान्तिक ताप]] (Critical temperature)
* [[ऊष्मा]]
* [[उष्मागतिकी]]
85,949

सम्पादन