"दिल आशना है": अवतरणों में अंतर

414 बाइट्स जोड़े गए ,  2 वर्ष पहले
छो
बॉट: पुनर्प्रेषण ठीक कर रहा है
छो (rv LTA)
टैग: वापस लिया
छो (बॉट: पुनर्प्रेषण ठीक कर रहा है)
| caption = '''दिल आशना है''' का पोस्टर
| producer = हेमामालिनी
| director = [[हेमा मालिनी|हेमामालिनी]]
| music = [[आनंद-मिलिंद]]
| writer = [[इकबाल दुर्रानी]]
| budget =
}}
'''दिल आशना है''' 1992 में बनी हिन्दी भाषा की [[प्रेमकहानी फ़िल्म]] है जिसका निर्देशन और निर्माण [[हेमा मालिनी|हेमामालिनी]] ने किया। इसमें [[शाहरुख़ ख़ान|शाहरुख खान]] और [[दिव्या भारती]] मुख्य भूमिका में और [[जितेन्द्र|जीतेन्द्र]], [[मिथुन चक्रवर्ती]], [[डिम्पल कपाड़िया|डिंपल कपाड़िया]], [[अमृता सिंह]] और [[सोनू वालिया]] सहायक भूमिकाओं में शामिल है। यह पहली फिल्म थी जिसे शाहरुख खान ने 1991 में साइन किया। लेकिन देरी के कारण ''[[दीवाना (1992 फ़िल्म)|दीवाना]]'' पहले रिलीज हुई और इस तरह उन्होंने बॉलीवुड में अपनी शुरुआत की।
 
== संक्षेप ==
लैला ([[दिव्या भारती]]) वेश्यालय में पाली गई, दिग्विजय सिंह ([[कबीर बेदी]]) के पांच सितारा होटल में एक कैबरे नर्तक है। एक दिन, लैला को अपनी मां से एक फोन कॉल प्राप्त होता है जो मरने वाली है। वह उसे चौंकाने वाली खबर बताती हैं; कि वह उसकी असली मां नहीं थी और लैला को गोद लिया गया था। करण ([[शाहरुख़ ख़ान|शाहरुख खान]]) लैला के साथ प्यार में पड़ता है। लैला को अपनी असली मां की तलाश में करण द्वारा सहायता मिलती है। उनकी खोज उन्हें रजिया ([[फ़रीदा जलाल|फरीदा ज़लाल]]) की ओर ले जाती है जो कहती है कि 18 साल पहले उनके कॉलेज में तीन शरारती लड़कियां थीं: बरखा ([[डिम्पल कपाड़िया|डिंपल कपाड़िया]]), राजलक्ष्मी ([[अमृता सिंह]]) और सलमा ([[सोनू वालिया]])। वे अपने संबंधित बॉयफ्रेंड से प्यार करती थी: सुनील ([[मिथुन चक्रवर्ती]]), प्रिंस अर्जुन ([[जितेन्द्र|जीतेन्द्र]]) और अकरम (नसीर अब्दुल्ला)। एक दिन उन्हें पता चला कि उनमें से एक गर्भवती है। वे रजिया से एक घर लेते हैं और बच्चे को पैदा करते हैं। जल्द ही जब बच्चा छह महीने का हो जाता है, उसे रजिया के पास भेजा जाता है और वे वादा करती हैं कि जो भी सबसे पहले शादी करेगा, वह उसे अपनाने वाला पहला होगा। उन्होंने उसे सितारा नाम दिया। करण ने पाया कि बरखा अब स्वास्थ्य और कल्याण मंत्री हैं, राजलक्ष्मी पोलो के लिए घोड़ों को प्रशिक्षित कर रही है और अर्जुन से विवाह कर चुकी है और सलमा सेंट टेरेसा (वह कॉलेज जिसमें उन्होंने पढ़ाई की) की प्रिंसिपल है और अकरम से विवाहित है। वे अब एक-दूसरे के संपर्क में नहीं हैं। करण और लैला ने तीनों महिलाओं को निमंत्रण के लिए अलग-अलग कारण बताते हुए आमंत्रित किया। जब लैला / सितारा उनसे सवाल करती है, तो वे चले जाते हैं। यह पता चला है कि सलमा शादी करने वाले पहली व्यक्ति थी, लेकिन सितारा के बारे में अपने ससुराल वालों को बताने में डर गई थी। दिग्विजय सिंह ने अपने होटल से लैला को फेंक दिया और जब उसपर गिरोह द्वारा हमला किया जाने ही वाला था तभी प्रिंस अर्जुन उसे बचाता है और उसे घर ले जाता है। दीवाली पार्टी के दौरान, एक व्यक्ति सितारा को हर किसी के सामने अपमानित करता है और फिर बरखा कबूल करती है कि वह सितारा की मां है। सीतारा उसे अपने पिता के बारे में पूछती है और बरखा उसे बताती है कि वह किसी तरह के सैन्य प्रशिक्षण के लिए संयुक्त राज्य अमेरिका चले गए और उसकी कोई खबर नहीं है। राजलक्ष्मी और सलमा सितारा से मिलने आते हैं, जबकि बरखा अपने पद से इस्तीफा देने जाती है।
 
== मुख्य कलाकार ==
* [[दिव्या भारती]] - लैला / सितारा
* [[शाहरुख़ ख़ान]] - करण
* [[जितेन्द्र|जीतेन्द्र]] - प्रिंस अर्जुन सिंह
* [[मिथुन चक्रवर्ती]] - सुनील (बरखा का प्रेमी)
* [[डिम्पल कपाड़िया]] - बरखा
* [[कबीर बेदी]] - राज बहादुर दिग्विजय सिंह
* [[रज़ा मुराद]] - गोवर्धन दास
* [[फ़रीदा जलाल|फरीदा ज़लाल]] - रज़िया
* [[बीना बैनर्जी]] - शोभा (करण की माँ)
* [[सुषमा सेठ]] - मिसेस बेग़
* [[सुलभा देशपांडे]] - शांतिदेवी
* [[मोहन आगाशे]] - प्रेम
* [[सत्येन्द्र कपूर|सत्येन कप्पू]] - राजलक्ष्मी के पिता
* [[शिवा रिन्दानी]] - अपहरण कर्ता
* [[बॉब क्रिस्टो]] - गोवर्धन का आदमी
85,949

सम्पादन