"कामन्दकीय नीतिसार" के अवतरणों में अंतर

छो
बॉट: पुनर्प्रेषण ठीक कर रहा है
छो (बॉट: पुनर्प्रेषण ठीक कर रहा है)
'''कामंदकीय नीतिसार''' [[राजनीति|राज्यशास्त्र]] का एक [[संस्कृत भाषा|संस्कृत]] ग्रंथ है। इसके रचयिता का नाम 'कामंदकि' अथवा 'कामंदक' है जिससे यह साधारणत: 'कामन्दकीय' नाम से प्रसिद्ध है। वास्तव में यह ग्रंथ [[चाणक्य|कौटिल्य]] के [[अर्थशास्त्र (ग्रन्थ)|अर्थशास्त्र]] के सारभूत सिद्धांतों (मुख्यत: राजनीति विद्या) का प्रतिपादन करता है। यह श्लोकों में रूप में है। इसकी भाषा अत्यन्त सरल है।
 
नीतिसार के आरम्भ में ही विष्णुगुप्त चाणक्य की प्रशंशा की गयी है-
 
== रचनाकाल ==
इसके रचनाकाल के विषय में कोई स्पष्ट प्रमाण उपलब्ध नहीं है। [[मारिज विण्टरनित्ज|विंटरनित्स]] के मतानुसार किसी कश्मीरी कवि ने इसकी रचना ईस्वी ७००-७५० के बीच की। डॉ॰ [[राजेन्द्रलाल मित्र]] का अनुमान है कि ईसा के जन्मकाल के लगभग [[बाली|बाली द्वीप]] जानेवाले आर्य इसे [[भारत]] से बाहर ले गए जहाँ इसका '[[कवि भाषा]]' में अनुवाद हुआ। बाद में यह ग्रंथ [[जावा]] द्वीप में भी पहुँचा। छठी शताब्दी के कवि [[दण्डी]] ने अपने '[[दशकुमारचरित]]' के प्रथम उच्छ्वास के अंत में 'कामंदकीय' का उल्लेख किया है।
 
इसके कर्ता कामंदकि या कामंदक कब और कहाँ हुए, इसका भी कोई पक्का प्रमाण नहीं मिलता। इतना अवश्य ज्ञात होता है कि ईसा की सातवीं शताब्दी के प्रसिद्ध [[नाटक]]कार [[भवभूति]] से पूर्व इस ग्रंथ का रचयिता हुआ था, क्योंकि भवभूति ने अपने [[नाटक]] '[[मालतीमाधव]]' में नीतिप्रयोगनिपुणा एक परिव्राजिका का 'कामंदकी' नाम दिया है। संभवत: नीतिसारकर्ता 'कामंदक' नाम से रूढ़ हो गया है तथा नीतिसारनिष्णात व्यक्ति के लिए प्रयुक्त होने लगा था।
कौटिल्य ने राजा और राज्य विस्तार के लिये युद्धों को आवश्यक बताया है। चाणक्य का मानना था कि अगर राजा को युद्धों के लिये फिट रहना है तो उसे निरंतर [[शिकार]] आदि करके खुद को प्रशिक्षित रखना होगा वहीं नीतिसार में राजा के शिकार तक करने को भी अनावश्यक बताया गया है, वह जीवमात्र को जीने और सह-अस्तित्व की बात करती है। नीतिसार कूटनीति, मंत्रणा और इसी तरह के अहिंसक तरीकों को अपनाने को प्राथमिकता देती है।
 
कौटिल्य जहां विजय के लिये [[उपाय|साम]], [[कीमत|दाम]], [[दण्ड|दंड]] और [[भेद]] की नीति को श्रेष्ठ बताते हैं, वे माया, उपेक्षा और इंद्रजाल में भरोसा रखते हैं वहीं नीतिसार मंत्रणा शक्ति, प्रभु शक्ति और उत्साह शक्ति की बात करती है। इसमें राजा के लिये राज्यविस्तार की कोई कामना नहीं है जबकि अर्थशास्त्र राज्य विस्तार और राष्ट्र की एकजुटता के लिये हर प्रकार की नीति का समर्थन करता है।
 
नीतिसार में युद्धों के खिलाफ काफी तर्क हैं। एक समझदार शासक को हमेशा युद्धों को टालने का ही प्रयास करना चाहिए।
85,632

सम्पादन