"पुद्गल" के अवतरणों में अंतर

69 बैट्स् जोड़े गए ,  1 वर्ष पहले
छो
बॉट: पुनर्प्रेषण ठीक कर रहा है
छो (बॉट: वर्तनी एकरूपता।)
छो (बॉट: पुनर्प्रेषण ठीक कर रहा है)
 
==जैन दर्शन==
[[जैन दर्शन]] के अनुसार, पुद्गल एक अजीव [[तत्त्व|तत्व]] हैं। वह चेतना रहित हैं। जब तक [[आत्मा]] पुद्गल से लिप्त हैं, तब तक वह [[ब्रह्माण्ड|संसार]] के जन्म-मरण के द्वंद्व में बंधी हुई हैं। पुद्गल से अलिप्त होने पर ही, आत्मा की [[मुक्ति]] संभव हैं।।
 
==ये भी देखें==
*[[तत्त्व|तत्व]]
*[[पदार्थ]]
*[[अणु]]
85,949

सम्पादन