"हिन्दू दर्शन" के अवतरणों में अंतर

3 बैट्स् जोड़े गए ,  2 वर्ष पहले
सम्पादन सारांश रहित
No edit summary
No edit summary
 
== छह दर्शन ==
उपनिषन्मूलक होने के कारण इनमें [[वेदान्त दर्शन|वेदांतदर्शन]] सबसे अधिक प्राचीन है। किंतु [[ब्रह्मसूत्र]] में अन्य दर्शनों का खंडन है तथा उसका प्राचीनतम भाष्य [[आदि शंकराचार्य]] का है (507 ई. पू.[1])। अन्य दर्शन सूत्रों के भाष्य ईसा की आरंभिक शताब्दियों में रचे गए। सांख्यसूत्र संभवतः लुप्त हो गया। [[ईश्वरकृष्ण]] (5वीं शताब्दी) की "[[सांख्यकारिका]]" '''सांख्य दर्शन''' का प्रामाणिक ग्रंथ है। सांख्य दर्शन निरीश्वरवादी द्वैतवाद है। इसके अनुसार प्रकृति और पुरुष दो स्वतंत्र और सनातन सत्ताएँ हैं। "प्रकृति" जड़ है और जगत् का सूक्ष्म कारण है। वह सत्व, रजस् और तमस् इन तीन गुणों की साम्यावस्था का नाम प्रकृति है। प्रकृति के साथ पुरुष का संपर्क होने से सर्ग का आरंभ होता है। सर्ग पुरुष का बंधन है। तत्वज्ञान से मोक्ष होता है। अपने शुद्ध चेतन कर्तृत्व भोक्तृत्व रहित स्वरूप के ज्ञान से पुरुष मुक्त होता है।
 
'''[[योग दर्शन]]''' के सिद्धांत सांख्य के समान हैं। योगसूत्र पर रचित भाष्य और टीकाएँ योगदर्शन की विस्तृत परंपरा का आधार हैं। योगदर्शन का मुख्य लक्ष्य समाधि के मार्ग को प्रशस्त करना है। समाधि में चित्त की समस्त वृत्तियों का निरोध हो जाता है। अभ्यास, वैराग्य और ध्यान योग के मुख्य साधन हैं। ईश्वर को भी ध्यान का लक्ष्य बनाया जा सकता है इतना ही योगदर्शन में ईश्वर का महत्व है। यम, नियम, आसन, प्राणायाम, प्रत्याहार, धारणा, ध्यान और समाधि के आठ अंगों से युक्त अष्टांगयोग योग का सर्वजन सुलभ मार्ग है।
6

सम्पादन