"गोमती नदी (उत्तर प्रदेश)" के अवतरणों में अंतर

छो
बॉट: पुनर्प्रेषण ठीक कर रहा है
छो (121.241.123.140 (Talk) के संपादनों को हटाकर Dr.jagdish के आखिरी अवतरण को पूर्ववत किया)
टैग: प्रत्यापन्न
छो (बॉट: पुनर्प्रेषण ठीक कर रहा है)
'''गोमती''' उत्तर भारत में बहने वाली एक प्रमुख नदी है। इसका उद्गम पीलीभीत जिले की तहसील माधौटान्डा के पास फुल्हर झील(गोमत ताल) से होता है। इस नदी का बहाव उत्तर प्रदेश में ९०० कि.मी. तक है। यह वाराणसी के निकट सैदपुर के पास कैथी नामक स्थान पर [[गंगा नदी|गंगा]] में मिल जाती हैI पुराणों के अनुसार गोमती ब्रह्मर्षि [[वशिष्ठ]] की पुत्री हैं तथा एकादशी को इस नदी में स्नान करने से संपूर्ण पाप धुल जाते हैं। हिन्दू ग्रन्थ श्रीमद्भागवत गीता के अनुसार गोमती भारत की उन पवित्र नदियों में से है जो मोक्ष प्राप्ति का मार्ग हैं। पौराणिक मान्यता ये भी है कि [[रावण]] वध के पश्चात "ब्रह्महत्या" के पाप से मुक्ति पाने के लिये भगवान श्री [[राम]] ने भी अपने गुरु महर्षि [[वशिष्ठ]] के आदेशानुसार इसी पवित्र पावन आदि-गंगा '''गोमती नदी''' में स्नान किया था एवं अपने धनुष को भी यहीं पर धोया था और स्वयं को ब्राह्मण की हत्या के पाप से मुक्त किया था, आज यह स्थान [[सुल्तानपुरसुलतानपुर जिला|सुल्तानपुर]] जिले की [[लंभुआ (तहसील), सुल्तानपुर|लम्भुआ]] तहसील में स्थित है एवं [[धोपाप]] नाम से सुविख्यात है। लोगों का मानना है कि जो भी व्यक्ति [[गंगा दशहरा]] के अवसर पर यहाँ स्नान करता है, उसके सभी पाप आदिगंगा '''गोमती नदी''' में धुल जाते हैं।
 
सम्पूर्ण अवध में '''गोमती तट''' पर स्थित "धोपाप" के महत्व को कुछ इस तरह से समझाया गया है:--
 
== उद्गम ==
इसका उद्गम [[पीलीभीत]] जनपद के माधोटान्डा कस्बे में होता है। माधोटान्डा [[पीलीभीत]] से लगभग ३० कि.मी. पूर्व में स्थित है। कस्बे के मध्य से करीब १ कि.मी. दक्षिण-पश्चिम में [[फुलहर झील]] है जिसे "पन्गैली फुल्हर ताल" या "गोमत ताल" कहते हैं, वहीं इस नदी का स्रोत्र है। इस ताल से यह नदी मात्र एक पतली धारा की तरह बहती है। इसके उपरान्त लगभग २० कि.मी. के सफ़र के बाद इससे एक सहायक नदी "गैहाई" मिलती है। लगभग १०० कि. मी. के सफ़र के पश्चात यह [[लखीमपुर, उत्तर प्रदेश|लखीमपुर खीरी]] जनपद की मोहम्मदी खीरी तहसील पहुँचती है जहाँ इसमें सहायक नदियाँ जैसे सुखेता, छोहा,कठिना तथा आंध्र छोहा मिलती हैं और इसके बाद यह एक पूर्ण नदी का रूप ले लेती है। गोमती और गंगा के संगम में प्रसिद्ध मार्कण्डेय महादेव मंदिर स्थित है। लखनऊ, लखीमपुर खीरी, '''[[सुल्तानपुर]]''' और जौनपुर गोमती के किनारे पर स्थित हैं और इसके जलग्रहण क्षेत्र में स्थित 15 शहर में से सबसे प्रमुख हैं। नदी जौनपुर शहर को एवं सुल्तानपुर जिले को लगभग दो बराबर भागों में विभाजित करती है और जौनपुर में व्यापक हो जाती है।
 
== नदी की लम्बाई (किलोमीटर मे) ==
[[चित्र:Gomti at Lucknow.jpg|thumb|right|thumb|180px| [[लखनऊ]] में गोमती]]
[[गोमती नदी]] की लंबाई उद्गम से लेकर [[गंगा नदी|गंगा]] में समावेश तक लगभग ९०० कि.मी. है। [[गंगा नदी|गंगा]] और [[गोमती नदी|गोमती]] के संगम पर मार्कंडेय महादेव जी का मंदिर है। गोमती के किनारे जो नगर बसे हैं, उनमें [[लखनऊ]], '''[[सुल्तानपुर]]''', तथा [[जौनपुर]] प्रमुख हैं।
 
== प्रदूषण ==
85,447

सम्पादन