"भाई मतिदास" के अवतरणों में अंतर

192 बैट्स् जोड़े गए ,  1 वर्ष पहले
छो
बॉट: पुनर्प्रेषण ठीक कर रहा है
(सुधार किया है)
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन
छो (बॉट: पुनर्प्रेषण ठीक कर रहा है)
[[Image:Bhai Mati Das.jpg|right|thumb|300px|'''भाई मतिदास का बलिदान''' - यह चित्र मोहाली-सरहिन्द मार्ग पर स्थित 'सिख इतिहास संग्रहालय' से लिया गया है।]]
'''भाई मतिदास''' [[सिख]] इतिहास के सर्वश्रेष्ठ शहीदों में गिने जाते हैं। वह ब्राह्मण जाति के थे। भाई मतिदास तथा उनके छोटे भाई [[भाई सती दास]] और [[भाई दयाला]] जी नौवें गुरु [[गुरु तेग़ बहादुर|गुरु तेगबहादुर]] जी के साथ शहीद हुए थे। उनको [[औरंगज़ेब|औरंगजेब]] के आदेश से [[दिल्ली]] के [[चाँदनी चौक|चांदनी चौक]] में 09 नवम्बर 1675 को आरे से चीर दिया गया था। उन्हें मृत्यु स्वीकार थी, परंतु [[इस्लाम]] नहीं। भाई मतिदास [[गुरु तेग़ बहादुर|गुरु तेगबहादुर]] जी के बेहद करीबी थे।
‘भाई’ का सम्मान स्वयं [[गुरु गोबिन्द सिंह|गुरु गोबिंद सिंह]] जी ने इन शहिदों और [[पंज प्यारे]] प्यारों को दिया था।
 
== इन्हें भी देखें ==
85,947

सम्पादन