"मैहर" के अवतरणों में अंतर

14 बैट्स् नीकाले गए ,  8 माह पहले
छो
बॉट: पुनर्प्रेषण ठीक कर रहा है
(→‎परिवहन: रेलवे स्टेशन से मंदिर की दूरी)
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन
छो (बॉट: पुनर्प्रेषण ठीक कर रहा है)
[[चित्र:Sharada Temple Maihar.JPG|thumb|देवी माँ शारदा मंदिर]]
[[चित्र:View from Sharda temple Maihar2.JPG|thumb|शारदा मन्दिर से आल्हा-उदल जलाशय]]
'''मैहर''' [[मध्य प्रदेश]] के [[सतना जिलाज़िला|सतना जिले]] का एक छोटा सा नगर है। यह एक प्रसिद्ध [[हिन्दू]] [[तीर्थ]]स्थल है। इन्हीं के नाम से एक बहुत प्रसिद्ध विद्यालय खुला है जो कि बहुत प्रसिद्ध है जिसका नाम माँ शारदा धनराजी देवी इंटर कॉलेज है जो कि उत्तर प्रदेश के भदोही के दवनपुर में स्थित है । मैहर में शारदा माँ का प्रसिद्ध मन्दिर ह जो नैसर्गिक रूप से समृद्ध कैमूर तथा विंध्य की पर्वत श्रेणियों की गोद में अठखेलियां करती तमसा के तट पर त्रिकूट पर्वत की पर्वत मालाओं के मध्य 600 फुट की ऊंचाई पर स्थित है। यह ऐतिहासिक मंदिर 108 [[शक्तिपीठ|शक्ति पीठोंपीठ]]ों में से एक है। यह पीठ सतयुग के प्रमुख अवतार नृसिंह भगवान के नाम पर 'नरसिंह पीठ' के नाम से भी विख्यात है। ऐतिहासिक तथ्यों के आधार पर [[परमाल रासो|आल्हखण्ड]] के नायक [[आल्हा]] व [[ऊदल]] दोनों भाई मां शारदा के अनन्य उपासक थे। पर्वत की तलहटी में आल्हा का तालाब व अखाड़ा आज भी विद्यमान है।
 
यहाँ प्रतिदिन हजारों दर्शनार्थी आते हैं किंतु वर्ष में दोनों [[नवरात्रि|नवरात्रों]] में यहां मेला लगता है जिसमें लाखों यात्री मैहर आते हैं। मां शारदा के बगल में प्रतिष्ठापित नरसिंहदेव जी की पाषाण मूर्ति आज से लगभग 1500 वर्ष पूर्व की है।
 
== उत्पत्ति ==
[[ब्रह्मा|ब्रह्माजी]] के पुत्र दक्ष प्रजापति का विवाह [[स्वायम्भूव मनु|स्वायम्भुव मनु]] की पुत्री [[प्रसूति]] से हुआ था। प्रसूति ने सोलह कन्याओं को जन्म दिया जिनमें से स्वाहा नामक एक कन्या का [[अग्नि देव]] के साथ, स्वधा नामक एक कन्या का पितृगण के साथ, [[सती]] नामक एक कन्या का भगवान [[शिव|शंकर]] के साथ और शेष तेरह कन्याओं का [[धर्म]] के साथ विवाह हुआ। धर्म की पत्नियों के नाम थे- श्रद्धा, मैत्री, दया, शान्ति, तुष्टि, पुष्टि, क्रिया, उन्नति, बुद्धि, मेधा, तितिक्षा, ह्री और मूर्ति।
 
== सती का जन्म, विवाह तथा दक्ष-शिव-वैमनस्य ==
85,334

सम्पादन