"भारतीय आम चुनाव, 2019" के अवतरणों में अंतर

छो
बॉट: पुनर्प्रेषण ठीक कर रहा है
छो (2409:4052:208F:C1EF:A7D5:6582:64F3:B83A (Talk) के संपादनों को हटाकर OishaniMojumder के आखिरी अवतरण को पूर्ववत किया)
टैग: प्रत्यापन्न SWViewer [1.3]
छो (बॉट: पुनर्प्रेषण ठीक कर रहा है)
| map_caption = गठबंधन द्वारा चुनाव के परिणाम
<!-- Prime Minister -->
| title = [[प्रधानमन्त्री|प्रधानमंत्री]]
| before_election = [[नरेन्द्र मोदी]]
| before_party = भारतीय जनता पार्टी
| posttitle = निर्वाचित [[भारत केका प्रधानमंत्रीप्रधानमन्त्री|प्रधानमंत्री]]
| after_election = [[नरेन्द्र मोदी]]
| after_party = भारतीय जनता पार्टी
[[सत्रहवीं लोक सभा]] के गठन के लिए '''भारतीय आम चुनाव''', देशभर में 11 अप्रैल से 19 मई 2019 के बीच 7 चरणों में अयोजित कराये गये। चुनाव के परिणाम 23 मई को घोषित किये,<ref>{{cite news |last1=देवांग दुबे/ |first1=अजय भारतीय |title=जानिए आपके शहर में कब है वोटिंग, देखें सभी 543 सीटों की लिस्ट |url=https://aajtak.intoday.in/story/lok-sabha-election-state-and-constituency-wise-schedule-1-1067207.html |accessdate=11 मार्च 2019 |publisher=आज तक}}</ref> जिसमें भारतीय जनता पार्टी ने 303 सीटों पर जीत हासिल की, और अपने पूर्ण बहुमत बनाये रखा और भाजपा के नेतृत्व वाले [[राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन|गठबंधन]] ने 353 सीटें जीतीं। भाजपा ने 37.36% वोट हासिल किए, जबकि [[राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन|एनडीए]] का संयुक्त वोट शेयर 60.37 करोड़ वोटों का 45% था।<ref>{{cite web|url=https://www.thehindu.com/elections/lok-sabha-2019/analysis-highest-ever-national-vote-share-for-the-bjp/article27218550.ece|title=Analysis: Highest-ever national vote share for the BJP}}</ref><ref>{{cite web|url=https://www.huffingtonpost.in/entry/61-crore-voted-2019-lok-sabha-elections-66-voter-turnout_in_5ce22bd1e4b00e035b92e395|title=61 Crore Indians Voted In 2019 Lok Sabha Elections; 66% Estimated Voter Turnout}}</ref> कांग्रेस पार्टी ने 52 सीटें जीतीं और कांग्रेस के नेतृत्व वाले [[संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन|गठबंधन]] ने 92 सीटें जीतीं। अन्य दलों और उनके गठबंधन ने भारतीय संसद में 97 सीटें जीतीं।
 
आम चुनाव के साथ-साथ [[आन्ध्र प्रदेश|आंध्र प्रदेश]], [[अरुणाचल प्रदेश]], [[ओडिशा]] और [[सिक्किम]] राज्यों के विधानसभा चुनाव भी कराये गये।<ref>{{cite news |title=लोकसभा चुनाव के साथ ही होंगे चार राज्यों में विधानसभा चुनाव |url=https://navbharattimes.indiatimes.com/india/assembly-elections-in-four-states-will-be-held-with-lok-sabha-elections/articleshow/68346892.cms |accessdate=11 मार्च 2019 |publisher=नवभारत टाइम्स}}</ref>
 
==निर्वाचन प्रणाली==
लोकसभा के 543 निर्वाचित सदस्यों को एकल-सदस्यीय निर्वाचन क्षेत्रों से पहले-पूर्व-पोस्ट-पोस्ट मतदान द्वारा चुना जाएगा। भारत के राष्ट्रपति एक अतिरिक्त दो सदस्यों को नामांकित करते हैं।<ref>[http://www.ipu.org/parline-e/reports/2145_B.htm Electoral system] IPU</ref>
 
[[वोटर वैरिफाइड पेपर ऑडिट ट्रेल]] (वीवीपीएटी) प्रणाली जो [[इलेक्‍ट्रानिक मतदान मशीन|इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन]] को ईवीएम स्लिप जनरेट करके प्रत्येक वोट को रिकॉर्ड करने में सक्षम बनाती है, सभी 543 लोक सभा निर्वाचन क्षेत्रों में उपयोग किया गया था।<ref>{{cite web|url=https://timesofindia.indiatimes.com/elections/news/paper-slips-of-vvpats-will-be-counted-last-election-commission/articleshow/69404604.cms|title=Paper slips of VVPATs will be counted last: Election Commission}}</ref> चुनावों के दौरान कुल 17.4 लाख वीवीपीएटी इकाइयों और 39.6 लाख ईवीएम का उपयोग 10,35,918 मतदान केंद्रों के रूप में किया जाएगा।<ref>{{cite web|url=https://graphics.reuters.com/INDIA-ELECTION-STATIONS/010092FY33Z/index.html|title=Roads, boats and elephants}}</ref><ref>{{cite web|url=https://www.nytimes.com/2019/04/13/world/asia/india-election-results.html|title=What It Takes to Pull Off India’s Gargantuan Election}}</ref><ref>{{cite web|url=https://www.outlookindia.com/newsscroll/after-sc-order-20600-polling-stations-to-have-evmvvpat-match/1511862|title=After SC order, 20,600 polling stations to have EVM-VVPAT match}}</ref><ref>{{cite web|url=https://www.ndtv.com/india-news/once-reviled-evm-emerges-clear-winner-in-lok-sabha-elections-2044362|title=Zero Complaints Came Up After Lok Sabha Polls, Claims Expert Behind EVMs}}</ref> 9 अप्रैल 2019 को [[भारत का उच्चतम न्यायालय|सुप्रीम कोर्ट]] ने निर्णय दिया, भारत के चुनाव आयोग को VVPAT स्लिप वोट काउंट को पाँच बेतरतीब ढंग से चुने गए EVM प्रति विधानसभा क्षेत्र में बढ़ाने का आदेश दिया, जिसका अर्थ है कि भारत के चुनाव आयोग को 20,625 EVM के VVPAT स्लिप की गिनती करनी है।<ref>{{cite web|url=https://timesofindia.indiatimes.com/india/count-vvpat-slips-of-5-booths-in-each-assembly-seat-sc/articleshow/68786810.cms|title=Count VVPAT slips of 5 booths in each assembly seat: SC}}</ref><ref>{{cite web|url=https://www.livelaw.in/top-stories/vvpat-sc-elections-144122|title=SC Directs ECI To Increase VVPAT Verification From One EVM To Five EVMs Per Constituency}}</ref><ref>{{cite web|url=https://www.moneylife.in/article/when-the-sc-says-no-for-software-audit-review-of-evms-and-vvpat-at-present/56828.html|title=When the SC Says No for Software Audit Review of EVMs & VVPAT at Present}}</ref> हालाँकि विभिन्न विधानसभा चुनावों में [[वोटर वैरिफाइड पेपर ऑडिट ट्रेल]] (वीवीपीएटी) पर्चियों के साथ ईवीएम परिणामों के मिलान की कवायद की जा रही थी, लेकिन लोकसभा चुनावों में यह पहली बार होगा। भारत निर्वाचन आयोग के अनुसार, 2014 में पिछले आम चुनाव के बाद से 84.3 मिलियन मतदाताओं की वृद्धि के साथ 900 मिलियन लोग मतदान करने के पात्र थे, यह दुनिया का सबसे बड़ा चुनाव था।<ref>{{cite web|url=https://www.news18.com/news/india/great-indian-elections-1951-2019-the-story-of-how-90-crore-voters-make-and-break-history-2062747.html|title=Great Indian Elections 1951-2019: The Story of How 90 Crore Voters Make and Break History}}</ref> 18-19 वर्ष और 38,325 ट्रांसजेंडरों के 15 मिलियन मतदाता पहली बार मतदान करने के अपने अधिकार का उपयोग करने के लिए पात्र हैं।<ref>{{cite web|url=https://qz.com/india/1569796/election-commission-to-certify-google-twitter-lok-sabha-poll-ads|title=15 million teenagers and 38,000 transgender people: How India’s 2019 elections are different}}</ref><ref>{{cite web|url=https://timesofindia.indiatimes.com/elections/news/lok-sabha-2019-more-than-90-crore-voters-register-to-vote/articleshow/68620296.cms|title=Lok Sabha 2019: More than 90 crore voters register to vote}}</ref> 2019 लोकसभा चुनाव के लिए 71,735 विदेशी मतदाताओं को मतदाता सूची में शामिल किया गया है।
 
{| class="wikitable" |
! rowspan="2" | सर्वेक्षण दिनांक
! rowspan="2" | सर्वेक्षण करने वाली संस्था
! width="70px" | [[राष्ट्रीय प्रजातांत्रिकजनतांत्रिक गठबंधन|एन डी ए]]
! width="70px" | [[भारत मेंके राजनीतिक दलों की सूची|अन्य]]
! width="70px" | [[संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन|यू पी ए]]
! rowspan="2" | बढ़त
{| class="wikitable" style="text-align:center"
! rowspan="2" | सर्वेक्षण करने वाली संस्था
! width="70px" | [[राष्ट्रीय प्रजातांत्रिकजनतांत्रिक गठबंधन|एन डी ए]]
! width="70px" | [[भारत मेंके राजनीतिक दलों की सूची|अन्य]]
! width="70px" | [[संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन|यू पी ए]]
! rowspan="2" | बढ़त
|-
|bgcolor="#ff9933"|
|[[शिवसेना|शिव सेना]]<ref>{{cite web|url=https://indianexpress.com/elections/lok-sabha-elections-bjp-shiv-sena-seat-sharing-amit-shah-uddhav-thackeray-live-updates-5589817/|title=Lok Sabha polls: BJP to contest on 25 seats, Shiv Sena settles for 23 in Maharashtra|date=18 February 2019|website=The Indian Express|language=en-IN|access-date=18 February 2019}}</ref>
|महाराष्ट्र
|colspan="2"|23
|-
|
|[[पाट्टाली मक्कल कॉची|पट्टाली मक्कल कच्ची]]<ref name=":7" />
|तमिलनाडु
|colspan="2"|7
|-
| bgcolor="red"|
|align=left|[[द्रविड़ मुन्नेत्र कड़गम|द्रविड़ मुनेत्र कड़गम]]<ref name=":2" />
|तमिलनाडु
| colspan="2" |23
|colspan="2"|0
|-
! colspan="2" |[[लेफ्ट डेमोक्रेटिक फ्रंट (केरल)|वाममोर्चा]]
!
! colspan="2" |63
==चुनाव प्रचार==
===अनुच्छेद 324 के तहत चुनाव आयोग की कार्रवाई===
भारतीय चुनाव आयोग ने [[योगी आदित्यनाथ]], आज़म खान और [[साध्वी प्रज्ञा|प्रज्ञा सिंह ठाकुर]], [[मेनका गांधी]] जैसे कुछ राजनीतिक नेताओं के खिलाफ कड़ी और अभूतपूर्व कार्रवाई की, उन्हें अनुच्छेद 324 को लागू करके तीन दिनों तक प्रचार करने से रोका।<ref>{{cite web|url=https://www.thehindu.com/opinion/op-ed/its-time-to-take-stock-of-the-electoral-process/article27239174.ece|title=It’s time to take stock of the electoral process}}</ref> बाद में चुनाव आयोग ने 7 वीं चरण की मतदान के दौरान 19 वीं सदी के बंगाली आइकन [[ईश्वर चन्द्र विद्यासागर]] की प्रतिमा तोड़े जाने के बाद पश्चिम बंगाल चुनाव प्रचार पर रोक लगा दी।<ref>{{cite web|url=https://economictimes.indiatimes.com/news/elections/lok-sabha/west-bengal/ec-invokes-article-324-orders-to-end-campaign-in-west-bengal/articleshow/69345878.cms|title=In an unprecedented action, EC curtails West Bengal campaigning after Kolkata violence}}</ref>
 
==मतदान==
[[भारत निर्वाचन आयोग|भारतीय चुनाव आयोग]] के अनुसार, २०१४ के पिछले आम चुनाव के बाद से ८.४३ करोड़ मतदाताओं की वृद्धि के साथ ९० करोड़ लोग वोट देने के पात्र है,<ref>{{cite web|url=https://www.thehindubusinessline.com/opinion/the-three-pillars-of-elections/article26704196.ece|title=The three pillars of elections}}</ref><ref>{{cite web|url=https://www.thequint.com/news/india/lok-sabha-2019-90-crore-voters-10-lakh-polling-stations-statistics|title=LS Polls 2019 in Numbers: Key Voter Stats You Should Know|date=10 March 2019}}</ref> यह दुनिया का सबसे बड़ा चुनाव था।<ref>{{cite web|url=https://www.news18.com/news/india/great-indian-elections-1951-2019-the-story-of-how-90-crore-voters-make-and-break-history-2062747.html|title=Great Indian Elections 1951-2019: The Story of How 90 Crore Voters Make and Break History}}</ref> १८-१९ वर्ष के आयु वर्ग के १.५ करोड़ मतदाता पहली बार मतदान करेंगे, जबकि 38325 ट्रांसजेंडर लोग पहली बार पुरुष या महिला के रूप में नहीं, तीसरे लिंग के सदस्य के रूप में मतदान कर सकेंगे।<ref>{{cite web|url=https://qz.com/india/1569796/election-commission-to-certify-google-twitter-lok-sabha-poll-ads|title=15 million teenagers and 38,000 transgender people: How India's 2019 elections are different}}</ref><ref>{{cite web|url=https://timesofindia.indiatimes.com/elections/news/lok-sabha-2019-more-than-90-crore-voters-register-to-vote/articleshow/68620296.cms|title=Lok Sabha 2019: More than 90 crore voters register to vote}}</ref> ७१,७३५ विदेशी मतदाताओं ने २०१९ के लोकसभा चुनाव के लिए मतदाता सूची में नाम दर्ज कराया है।
 
२०१५ में, एक भारत-बांग्लादेश सीमा समझौते पर हस्ताक्षर किए गए, जिसमें दोनों देशों ने अपने परिक्षेत्रों का आदान-प्रदान किया। नतीजतन, यह पहली बार होगा जब इन पूर्व एन्क्लेव के निवासियों ने किसी भारतीय आम चुनाव में मतदान किया है।<ref>{{cite web|url=https://theprint.in/politics/north-bengal-gets-ready-for-epic-mamata-modi-battle-didis-image-vs-dadas-charm/217438/|title=North Bengal gets ready for epic Mamata-Modi battle — Didi's image vs Dada's charm|date=6 April 2019}}</ref>
|36 {{decrease}}
|-
|[[ऑल झारखण्ड स्टूडेंट्स यूनियन|ऑल झारखंड स्टूडेंट्स यूनियन]]
|
|
|-
| rowspan="2" bgcolor="#FF0000"|
| rowspan="2" align=left|[[लेफ्ट डेमोक्रेटिक फ्रंट (केरल)|वाममोर्चा]]
|[[भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (मार्क्सवादी)]]
|
* यदि पूरे देश की बात करें तो भाजपा का मत-प्रतिशत ४१% हो गया जो सन २०१४ के ३१% से १०% अधिक है।
 
* कांग्रेस के अध्यक्ष [[राहुल गांधी]], [[अमेठी लोक सभा निर्वाचन क्षेत्र|अमेठी]] से चुनाव हार गए। उन्हे भाजपा की [[स्मृति ईरानी|स्मृति इरानी]] ने लगभग ५० हजार मतों से हराया।
 
* कांग्रेस केवल ५२ सीटों पर ही विजयी हो पायी। इस बार भी उसे 'प्रतिपक्ष के नेता' का पद नहीं मिल पाएगा।
* कांग्रेस को 18 राज्यों में एक भी सीट नहीं मिली।
 
* [[बिहार ]]में [[लालू प्रसाद यादव|लालू यादव]] के [[राष्ट्रीय जनता दल]] को एक भी सीट पर जीत नहीं मिल सकी।
 
* 2019 के चुनावों में भारत में लगभग 1.04 प्रतिशत मतदाताओं ने उपरोक्त में से कोई नहीं ([[नोटा]]) के लिए मतदान किया, जिसमें बिहार 2.08 प्रतिशत [[नोटा]] मतदाताओं के साथ अग्रणी रहा।<ref>{{cite web|url=https://www.firstpost.com/politics/lok-sabha-election-results-2019-most-nota-votes-were-cast-in-bihar-maharashtra-recorded-486902-such-votes-with-palghar-topping-the-list-6693611.html|title=Lok Sabha Election Results 2019: Most NOTA votes were cast in Bihar; Maharashtra recorded 4,86,902 such votes with Palghar topping the list}}</ref>
* [[भारतीय आम चुनाव, 2014]]
* [[वोटर वैरिफाइड पेपर ऑडिट ट्रेल]]
* [[इलेक्‍ट्रानिक मतदान मशीन|इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन]] (ईवीएम)
 
==सन्दर्भ==
85,063

सम्पादन