"बरखा दत्त" के अवतरणों में अंतर

115 बैट्स् जोड़े गए ,  1 वर्ष पहले
छो
बॉट: पुनर्प्रेषण ठीक कर रहा है
छो (बॉट: साँचा बदल रहा है: Infobox person)
छो (बॉट: पुनर्प्रेषण ठीक कर रहा है)
| death_place =
| education =
| occupation = समाचार प्रस्तोता, [[एनडीटीवी खबर|एनडीटीवी]]
| years_active = 1991 - वर्तमान
| alias =
| agent =
}}
'''बरखा दत्त''' (जन्म: [[१८ दिसम्बर|१८ दिसंबर]], [[१९७१]]) एक [[भारत|भारतीय]] टीवी [[पत्रकार]] हैं।<ref>{{cite web|url=https://www.washingtonpost.com/news/global-opinions/wp/2017/11/17/the-new-york-times-tried-to-explain-sari-fashion-and-became-the-laughingstock-of-india/?utm_term=.4018c2f3a9ee|title=The New York Times tried to explain sari fashion — and became the laughingstock of India}}</ref>
 
==जीवन==
दत्त का जन्म नई दिल्ली में एयर इंडिया के एक अधिकारी एस पी दत्त और प्रभा दत्त, जो हिंदुस्तान टाइम्स के साथ एक प्रसिद्ध पत्रकार थे। दत्त अपनी पत्रकारिता कौशल को अपनी मां, भारत में महिला पत्रकारों के बीच एक अग्रणी करने का श्रेय देता है। उनकी छोटी बहन बहार दत्त सीएनएन आईबीएन के लिए काम कर रहे एक टेलीविजन पत्रकार भी हैं। वह खुद को [[अज्ञेयवाद|अज्ञेयवादी]] कहती है जो [[धर्म]] को खारिज करते हैं।<ref>[http://www.hindustantimes.com/india/as-indian-as-they-come/story-yU5vB2dKfHKvdc2bQUSPWJ.html Swimming in the sea of India’s cultural complexity has taught me that I can no longer carry my agnosticism lightly]</ref><ref>{{cite web|url=https://www.jansatta.com/national/barkha-dutt-wrote-in-the-week-that-how-would-she-feel-if-she-were-a-muslim-in-todays-india/364180/|title=बरखा दत्त ने बताया कि वो मुसलमान होतीं तो आज कैसा महसूस करतीं}}</ref> वह [[समान नागरिक संहिता|समान आचार संहिता]] की अवधारणा का समर्थन करती है।<ref>{{cite web|url=https://www.hindustantimes.com/columns/shame-at-sabarimala-why-india-s-women-need-a-uniform-civil-code/story-U7FLp10SzZzfTvWnXov5aJ.html|title=Shame at Sabarimala: Why India’s women need a uniform civil code}}</ref><ref>[http://www.hindustantimes.com/columns/the-fight-against-triple-talaq-is-a-fight-for-basic-dignity/story-TRqHtiK8NcqeKFYKB092lM.html The fight against triple talaq is a fight for basic dignity]</ref> बरखा ने ट्रिपल तालक और मुस्लिम [[पितृसत्ता]] के खिलाफ अपनी राय व्यक्त की है।<ref>{{cite web|url=https://www.washingtonpost.com/news/global-opinions/wp/2017/05/05/what-indias-liberals-get-wrong-about-women-and-sharia-law/|title=What India’s liberals get wrong about women and sharia law}}</ref>
 
==आलोचना==
85,632

सम्पादन