"मार्टिन लूथर किंग" के अवतरणों में अंतर

74 बैट्स् नीकाले गए ,  1 वर्ष पहले
"मोंटगोमरी_बस_का_बहिष्कार.jpg" को हटाया। इसे कॉमन्स से 1989 ने हटा दिया है। कारण: Copyright violation; see Commons:Licensing (F1)
("समाचार_पत्र_मेें_छपी_हुई_खबर.jpg" को हटाया। इसे कॉमन्स से 1989 ने हटा दिया है। कारण: Copyright violation; see Commons:Licensing (F1))
("मोंटगोमरी_बस_का_बहिष्कार.jpg" को हटाया। इसे कॉमन्स से 1989 ने हटा दिया है। कारण: Copyright violation; see Commons:Licensing (F1))
पूरे 381 दिनों तक चले इस सत्याग्रही आंदोलन के बाद अमेरिकी बसों में काले-गोरे यात्रियों के लिए अलग-अलग सीटें रखने का प्रावधान खत्म कर दिया गया। बाद में उन्होंने धार्मिक नेताओं की मदद से समान नागरिक कानून आंदोलन अमेरिका के उत्तरी भाग में भी फैलाया। उन्हें सन्‌ 64 में विश्व शांति के लिए सबसे कम् उम्र में नोबेल पुरस्कार से नवाजा गया। कई अमेरिकी विश्वविद्यालयों ने उन्हें मानद उपाधियां दीं। धार्मिक व सामाजिक संस्थाओं ने उन्हें मेडल प्रदान किए। 'टाइम' पत्रिका ने उन्हें 1963 का 'मैन ऑफ द इयर' चुना। वे गांधीजी के अहिंसक आंदोलन से बेहद प्रभावित थे। गांधीजी के आदर्शों पर चलकर ही डॉ॰ किंग ने अमेरिका में इतना सफल आंदोलन चलाया, जिसे अधिकांश गोरों का भी समर्थन मिला।
सन्‌ 1959 में उन्होंने भारत की यात्रा की। डॉ॰ किंग ने अखबारों में कई आलेख लिखे। 'स्ट्राइड टुवर्ड फ्रीडम' (1958) तथा 'व्हाय वी कैन नॉट वेट' (1964) उनकी लिखी दो पुस्तकें हैं। सन्‌ 1957 में उन्होंने साउथ क्रिश्चियन लीडरशिप कॉन्फ्रेंस की स्थापना की। डॉ॰ किंग की प्रिय उक्ति थी- 'हम वह नहीं हैं, जो हमें होना चाहिए और हम वह नहीं हैं, जो होने वाले हैं, लेकिन खुदा का शुक्र है कि हम वह भी नहीं हैं, जो हम थे।' 4 अप्रैल 1968 को गोली मारकर उनकी हत्या कर दी गई।
[[चित्र:मोंटगोमरी बस का बहिष्कार.jpgचित्|अंगूठाकार|21 दिसंबर, 1956 को एक मॉन्टगोमरी बस में रोजा पार्क , जिस दिन मॉन्टगोमरी की सार्वजनिक परिवहन प्रणाली को कानूनी रूप से एकीकृत किया गया था। पार्क्स के पीछे घटना को कवर करने वाला एक यूपीआई रिपोर्टर निकोलस सी। क्रिस है ।]]
[[चित्|अंगूठाकार]]