"चन्दन" के अवतरणों में अंतर

7,933 बैट्स् जोड़े गए ,  1 वर्ष पहले
छो
छो (बॉट: पुनर्प्रेषण ठीक कर रहा है)
== बाहरी कड़ियाँ ==
* [http://www.ingentaconnect.com/content/nrc/cjb/2006/00000084/00000010/art00009 Article abstract] The anatomy of Santalum album (Sandalwood) haustoria.
 
[https://mehlabizpitaara.blogspot.com/2020/02/blog-post_60.html अमूमन लोगों को लगता है कि चंदन की खेती अवैध है, जबकि ऐसा नहीं है।]
 
केरल, कर्नाटक चंदन उत्पादन में अग्रणी
 
देश में चंदन की खेती के मुख्य राज्य केरल एवं कर्नाटक हैं। लेकिन अब अन्य राज्यों में भी इसके ट्रायल हो रहे हैं। केरल में चंदन का ऑयल कंटेंट चार फीसदी और कर्नाटक में तीन फीसदी है, जबकि इसके बाद पंजाब में 2.80 से तीन फीसदी, ओडिशा में ढाई फीसदी, महाराष्ट्र में दो फीसदी, मध्यप्रदेश में डेढ़ फीसदी और राजस्थान में डेढ़ फीसदी तक है।
 
स्पष्ट है कि पंजाब में चंदन की खेती की अपार संभावनाएं हैं और सूबा इसमें अग्रणी बन सकता है। चंदन की व्यावसायिक खेती कर पंजाब में भी ऑयल कंटेंट तीन फीसदी तक आसानी से लाया जा सकता है। रूटीन फसलें पैदा करने के साथ-साथ किसान अपने खेत के चारों तरफ की बट पर भी प्रति एकड़ अस्सी पेड़ लगाकर आमदनी बढ़ा सकता है।
 
चंदन के पौधे और चंदन की लकड़ी सफेद चंदन का पेड़ पहाड़ी और रेगिस्तानी प्रदेशों में भी लगाया जा सकता है। राजस्थान के छीपाबड़ौद के किसान नवलकिशोर अहीर ने चंदन की खेती कर ऐसा कमाल कर दिखाया है, जिससे कृषि विभाग भी हैरत में है।
 
चन्दन की खेती के लिए कैसी मिट्टी की जरुरत है ?
 
इसकी खेती सभी तरह की मिटटी में हो सकता है लेकिन रेतीली मिटटी, चकनी मिटटी, लाल मिटटी , काली दानेदार मिट्टी चन्दन के पौधे की लिए ज्यादा उपयुक्त है | चन्दन की खेती वैसे जगह पर नहीं करे जहाँ पर पानी का जमाव होता है , बर्फ गिरती है, रेत भरी मिटटी है इसके अलवा तीव्र ठंड चन्दन के लिए उपयुक्त नहीं है | इसकी खेती काश्मीर के लाद्दक तथा राजस्थान के जैसलमेर में नहीं किया जा सकता है | बाकि पुरे देश में चन्दन की खेती की जा सकती है |
 
चन्दन की खेती कैसे करें ?
 
खेती के लिए मिट्टी के साथ पौधे का चुनाव करना महत्वपूर्ण रहता है | सफ़ेद चन्दन की 375 पौधे एक एकड़ खेत में लगाया जा सकता है | चन्दन की पौधों में ज्यादा पानी नहीं लगना चाहिए इसके लिए खेत में मेड बनाकर रोपाई करना चाहिए | इसके लिए मेड से मेड की दुरी 10 फुट होना चाहिए तथा मेड के ऊपर पौधे से पौधे की दुरी 12 फुट की होनी चाहिए |
 
पौधे कैसे लगायें
 
चन्दन की पेड़ अकेले नही लगाया जा सकता है अगर अकेले चन्दन का पेड़ लगाया गया तो यह सुख जयेगा | इसका कारण यह है की चन्दन अर्धपरजीवी पौधा है | मतलब आधा जीवन के लिए जरूरत खुद पूरा करता है तो आधे जरूरत के लिए दुसरे पौधे की जड़ों पर निर्भर रहता है इसलिए जब भी चन्दन की पेड़ लगाएं तो उसके साथ और भी पेड़ लगाएं |
 
एक बात का ख्याल रखना होगा की चन्दन के कुछ खास पौधे उसके साथ है जिसे लगाने पर ही चन्दन का विकास सम्भव है | जैसे – नीम, मीठी नीम, सहजन, लाल चंदा इत्यादी |
 
जैसा की पहले बताया जा चूका है की चन्दन की पौधे अकेले जीवित नही रह सकता है | इसके लिए दुसरे पेड़ का होना जरुरी है |
 
इसलिए एक एकड़ में 375 सफ़ेद चन्दन के पौधे लगाने के साथ ही 1125 चन्दन की होस्ट (साथी) पौधे को लगाना होगा | इसके लिए यह जानना जरुरी है की चन्दन की पोधे के साथ कौन – कौन से पौधे लगाना होगा यानि चन्दन की कौन – कौन सी पौधे साथी है |
 
एक एकड़ में चन्दन की पौधे के साथ उसके साथी पौधे को बोना चाहिए |
 
1-प्राथमिक साथी – 375
 
2-लाल चन्दन – 125
 
3- कैजुराइना – 125
 
4- देसी नीम – 125
 
5- सेकेंडरी होस्ट – 750
 
6- मीठी नीम – 375
 
7-सहजन – 375
 
खेती के लिए पौधे कहाँ से खरीदें ?
 
चन्दन की खेती के लिए बीज तथा पौधे दोनों खरीदे जा सकते हैं | इसके लिए केंद्र सरकार की लकड़ी विज्ञान तथा तकनीक संस्थान ([https://mehlabizpitaara.blogspot.com/2020/02/blog-post_60.html institute of wood science & technology]) बेंगलोर में है | यहाँ से आप चन्दन की पौधे प्राप्त कर सकते हैं |
इसका पता है
Tree improvement and genetics division institute of wood science and technology
 
o.p. malleshwaram
 
bangalore – 506003 (india)
 
चंदन की खेती अवैध नहीं है।
 
== सन्दर्भ ==
21

सम्पादन