"मैहर" के अवतरणों में अंतर

1,885 बैट्स् जोड़े गए ,  8 माह पहले
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन
 
== उत्पत्ति ==
हिंदू धर्म के सृष्टि रचयिता ब्रह्मा जी के पुत्र दक्ष प्रजापति की पुत्री सती का विवाह भगवान शंकर के साथ हुआ एक बार दक्ष प्रजापति ने भगवान शंकर को नीचा दिखाने के उद्देश्य से एक यज्ञ का आयोजन किया और उसमें भगवान शंकर को आमंत्रण नहीं दिया जब यह बात सती को पता चली तो उन्होंने भगवान शंकर से दक्ष प्रजापति के यज्ञ में जाने की बात कही भगवान शंकर के मना करने पर भी सती नहीं मानी और वह बिना बुलाए ही अपने पिता के घर अर्थात दक्ष प्रजापति के यज्ञ में पहुंच गई किंतु वहां पर सभी देवताओं का स्थान तो था परंतु भगवान शंकर का कोई भी स्थान निश्चित नहीं था उनको कोई भी मान सम्मान नहीं दिया गया इस बात से क्रुद्ध होकर सती ने यज्ञ की अग्नि में स्वयं को भस्म कर लिया इस बात का पता जब भगवान शंकर को चला तो भगवान शंकर ने अपने गणों को भेज कर यज्ञ को ध्वस्त कर दिया और देवी सती के सब को लेकर तांडव करने लगे यह बात जब भगवान नारायण को पता चली तब उन्होंने भगवान शंकर को इस दुख से बाहर निकालने के लिए क्षति के शरीर के सुदर्शन चक्र से टुकड़े कर दिए यह सारे टुकड़े भारतवर्ष के अलग-अलग स्थानों पर गिरे जिन स्थानों पर भी सती के शव के जो भी अंग गिरे उन्हीं से उनका नामकरण हुआ और वहां पर शक्तिपीठों की स्थापना हुई इसी सिलसिले में कहा जाता है कि सती के गले का हार मैहर में गिरा था इसलिए यहां पर मैहर में शारदा मां का मंदिर है।
[[ब्रह्मा|ब्रह्माजी]] के पुत्र दक्ष प्रजापति का विवाह [[मनु|स्वायम्भुव मनु]] की पुत्री [[प्रसूति]] से हुआ था। प्रसूति ने सोलह कन्याओं को जन्म दिया जिनमें से स्वाहा नामक एक कन्या का [[अग्नि देव]] के साथ, स्वधा नामक एक कन्या का पितृगण के साथ, [[सती]] नामक एक कन्या का भगवान [[शिव|शंकर]] के साथ और शेष तेरह कन्याओं का [[धर्म]] के साथ विवाह हुआ। धर्म की पत्नियों के नाम थे- श्रद्धा, मैत्री, दया, शान्ति, तुष्टि, पुष्टि, क्रिया, उन्नति, बुद्धि, मेधा, तितिक्षा, ह्री और मूर्ति।
 
== सती का जन्म, विवाह तथा दक्ष-शिव-वैमनस्य ==
66

सम्पादन