"चित्रकोट जलप्रपात" के अवतरणों में अंतर

4,352 बैट्स् जोड़े गए ,  1 वर्ष पहले
छो
unexplained addition/removal of huge text
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन
छो (unexplained addition/removal of huge text)
टैग: प्रत्यापन्न
[[चित्र:Chitrakot_waterfall3.JPG|thumb|चित्रकोट जलप्रपात जलप्रपात]]
'''चित्रकोट जलप्रपात ''' [[भारत]] के [[छत्तीसगढ़]] प्रदेश के बस्तर जिले में स्थित एक जलप्रपात है। इस जल प्रपात की ऊँचाई 90 फुट और चौड़ाई 985 फुट है।
 
[[जगदलपुर]] से 39 किमी दूर इन्द्रावती नदी पर यह जलप्रपात बनता है। समीक्षकों ने इस प्रपात को आनन्द और आतंक का मिलाप माना है। 90 फुट ऊपर से इन्द्रावती की ओजस्विन धारा गर्जना करते हुये गिरती है। इसके बहाव में इन्द्रधनुष का मनोरम दृश्य, आल्हादकारी है। यह बस्तर संभाग का सबसे प्रमुख जलप्रपात माना जाता है। जगदलपुर से समीप होने के कारण यह एक प्रमुख पिकनिक स्पाट के रूप में भी प्रसिद्धि प्राप्त कर चुका है। अपने घोडे की नाल समान मुख के कारण इस जाल प्रपात को भारत का [[निआग्रा जल प्रपात|नियाग्रा]] भी कहा जाता है।== स्थलाकृति ==
चित्रकोट जलप्रपात - भारत के नियाग्रा फॉल्‍स के रूप में भी जाना जाता हैं और इसे भारत के सबसे चौड़ा जलप्रपात होने का गौरव प्राप्‍त है। यह जगदलपुर से 38 किमी दूर स्थित है और केवल सड़क मार्ग से पहुँचा जा सकता है। छत्तीसगढ़ में सबसे लोकप्रिय झरने के रूप में सूचीबद्ध है। आश्‍चर्यजनक ढंग से सुंदर दिखने वाला यह झरना घने जंगल वातावरण के बीच अपार प्राकृतिक सौंदर्य को दर्शाता है।
[[फाइल: चित्रकोट_ जलप्रपात। जेपीजी | अंगूठा | चित्रकोट जलप्रपात]]
 
चित्रकूट जलप्रपात <ref>
जलप्रपात इंद्रावती नदी पर भारतीय राज्‍य छत्तीसगढ़ के बस्तर जिले में जगदलपुर के पास स्थित है। लगभग 95 फीट की ऊंचाई से घने वनस्पति और झरने के रूप में बह रहे नदी के पानी को देखने के लिये हजारों पर्यटकों यहां खिंचे चले आते हैं।
[https://www.youtube.com/watch?v=eRzaVNd10nw चित्रकूट जलप्रपात - भारतीय नियाग्रा] </ ref> इंद्रावती नदी पर स्थित है। नदी का उद्गम [[कालाहांडी]] [[ओडिशा, भारत | ओडिशा]] क्षेत्र में, [[विंध्य रेंज]] पहाड़ियों में, पश्चिम की ओर बहती है और फिर चित्रकूट में पड़ती है, [[तेलंगाना]] और अंत में [[गोदावरी नदी]], {{Sfn | बोर्ड | p = 267}} का पता लगाने के बाद {{Convert | 240 | mi}} राज्य में, [[भद्रकाली (स्थान) | भद्रकाली]]] {Sfn | चटर्जी १ ९ ५५ | p = ३०६}} <ref name = Patro> {{Cite web | last = Patro | first = Jagdish | url = http: //www.indiastudychannel.com/resources/163040-Chitrakoot-Waterfalls-The -नियाग्रा-जलप्रपात-भारत.स्पेक्स | शीर्षक = चित्रकूट जलप्रपात - भारत का नियाग्रा जलप्रपात | तिथि = 14 दिसंबर 2013 | प्रकाशक = भारत अध्ययन चैनल}} </ ref>
फॉल्स की मुक्त बूंद {{Convert | 30 | m}} के बारे में सरासर ऊंचाई है। अपने घोड़े की नाल के आकार के कारण, यह नियाग्रा फॉल्स के साथ तुलना की जाती है और इसे सोबरीक a द स्मॉल नियाग्रा फॉल्स ’में दिया जाता है। जुलाई और अक्टूबर से बारिश के मौसम में, झरने से धुंध पर प्रतिबिंबित होने वाली सूरज की किरणों से इंद्रधनुष बनते हैं। {{Sfn | House | 2004 | p = 132}}
 
चित्रकूट जलप्रपात के बाएं किनारे पर, एक छोटा [[हिंदू मंदिर | हिंदू मंदिर]] जो भगवान [[शिव]] को समर्पित है और कई प्राकृतिक रूप से "पार्वती गुफाओं" (शिव की पत्नी [पार्वती]] के नाम पर बनाया गया है। स्थित हैं। गर्मी के मौसम को छोड़कर क्षेत्र में मौसम आम तौर पर सुहावना होता है जब यह क्षेत्र में वनस्पति की अनुपस्थिति के कारण गर्म होता है।https://lh5.googleusercontent.com/p/AF1QipOOIIKHNmLsqVqY67bBMSewMxr1lkyk9vcghj1Z=w1136-h616-n-k-no
इस झरने की चौड़ाई 985 फीट है और मौसम के अनुसार बदलती रहती है और गर्मी के दिनों में काफी कम हो जाती है। चित्रकोट झरने का सबसे आकर्षक नजारा मॉनसून के मौसम में होता है, जब नदी अपने चरम पर बहती है और तटों को व तलछट दोनों को छूती है।
<ref name = Chitra2003> {{Cite web | url = http: //tourism.gov.in/ CMSPagePicture / file / marketresearch / Statewise20yrsplan / chhattisgarh.pdf | प्रकाशक = संस्कृति और पर्यटन मंत्रालय | शीर्षक = छत्तीसगढ़ में सतत पर्यटन के विकास के लिए 20 साल की परिप्रेक्ष्य योजना। 5 से = 12-3 की पहुँच-तिथि = 2015 -02-02 | आर्काइव-उरेल = https: //web.archive.org/web/20130911093612/http: //tourism.gov.in/CMSPagePicture/file/marketresearch/stive20yrsplan/chhattisgarh.pdf | 2013- date = 2013 -09-11 | मृत- url = हाँ}} </ ref>
जगदलपुर के मैदानी इलाकों के माध्यम से नालियों में बहने के कारण नदी अपने बहाव की वजह से गिरती हुई नदी के किनारे पर धीमी गति से बहती है। नदी घाटी की इस पहुंच में बहुत कम वन कवर हैं। नदी के नीचे बोधघाट वनाच्छादित क्षेत्र आता है और नदी का प्रवाह अपने प्रवाह की स्थिति में भारी परिवर्तन से गुजरता है। नदी के बहाव क्षेत्र में वातन प्रक्रिया और वन नदी में गाद को छानते हैं। <ref> {{cite | title = Vācham | url = https: //books.google.com/books? Id = gX5-AAAAMAAJ। Year = 1996 | प्रकाशक = मानव बस्तियों और पर्यावरण के लिए राष्ट्रीय केंद्र | p = 46}} </ ref>
 
चित्रकूट जलप्रपात, [[कांगेर घाटी राष्ट्रीय उद्यान | कांगेर घाटी राष्ट्रीय उद्यान]] के पास स्थित दो झरनों में से एक है, दूसरा [[तीरथगढ़ झरना]] है। {{Sfn | Menon | 2014 | p = 103}}
मॉनसून के मौसम यानि जुलाई से सितंबर में इस शानदार चित्रकूट वॉटरफॉल को देखने का सबसे सही समय है। कभी-कभी बारिश के बाद यहां पर आकाश में सुंदर इंद्रधनुष देखने को मिलेगा। यहां पर आने का ये सबसे बड़ा फायदा है।
 
{{भारत के प्रपात}}
कैसे पहुंचे
 
[[श्रेणी:छत्तीसगढ़]]
नजदीकी हवाई अड्डा रायपुर
[[श्रेणी:भारत के जल प्रपात]]
चित्रकूट जलप्रपात केबल सड़क मार्ग द्वारा ही जुड़ा हुआ है।