"राम नवमी" के अवतरणों में अंतर

1,166 बैट्स् जोड़े गए ,  1 वर्ष पहले
नई जानकारी जोड़ी
(सन्दर्भ जोड़ा)
(नई जानकारी जोड़ी)
[[चित्र:Rama, Sita and Lakshmana.jpg|left|thumb|[[राम]], [[सीता]], [[लक्ष्मण]] एवं [[हनुमान]] राम नवमी पूजन में एक घर में]]
रामनवमी के त्यौहार का महत्व [[हिन्दू धर्म|हिंदु]] धर्म सभ्यता में महत्वपूर्ण रहा है। इस पर्व के साथ ही माँ [[दुर्गा]] के नवरात्रों का समापन भी होता है। हिन्दू धर्म में रामनवमी के दिन [[पूजा]] की जाती है। रामनवमी की पूजा में पहले देवताओं पर जल, रोली और लेपन चढ़ाया जाता है, इसके बाद मूर्तियों पर मुट्ठी भरके चावल चढ़ाये जाते हैं। पूजा के बाद आ‍रती की जाती है।
 
== आदि राम ==
[[कबीर|कबीर साहेब]] जी '''आदि राम''' की परिभाषा बताते है की आदि राम वह अविनाशी परमात्मा है जो सब का सृजनहार व पालनहार है। जिसके एक इशारे पर‌ धरती और आकश काम करते हैं जिसकी स्तुति में तैंतीस करोड़ देवी-देवता नतमस्तक रहते हैं। जो पूर्ण मोक्षदायक व स्वयंभू है।<ref>{{Cite web|url=https://news.jagatgururampalji.org/ram-navami-2020-hindi/|title=आदि राम की जानकारी|last=|first=|date=|website=SA NEWS Channel|archive-url=|archive-date=|dead-url=|access-date=}}</ref><blockquote>''"एक राम दशरथ का बेटा, एक राम घट घट में बैठा, एक राम का सकल उजियारा, एक राम जगत से न्यारा"।।''</blockquote>
 
==रामनवमी का महत्व==