"माधवी पारेख" के अवतरणों में अंतर

1 बैट् नीकाले गए ,  3 माह पहले
माधवी पारेख ने अपने बचपन और काल्पनिक यादों को चित्रित करके पेंटिंग शुरू की। उनकी पेंटिंग विशद और असली हैं। उन्होंने पारंपरिक लोक शैली में पेंटिंग शुरू की और बाद में धीरे-धीरे कैनवास पर तेल और एक्रिलिक और कागज पर वाटर कलर की ओर बढ़ गया, जिससे उन्हें अपनी कलात्मक कल्पना को व्यापक बनाने के साथ-साथ महिलाओं, बच्चों, शहरी और ग्रामीण पर अपने विचारों को व्यक्त करने के लिए एक नई भाषा मिल गई। । <ref>{{Cite book|title=The Self & The World, an exhibition of Indian Women Artist|last=|first=|year=1997|isbn=|location=|pages=43}}</ref>
 
,== प्रभाव ==
माधवी पारेख की शुरुआती रचनाएँ भारत के एक ग्रामीण हिस्से में बिताए बचपन से आख्यानों और लोक कथाओं से प्रेरित हैं। [[रंगोली|रंगोली के]] पारंपरिक डिजाइनों ने, कला को माधवी के लिए रोजमर्रा की घरेलू रस्म का हिस्सा बना दिया, और इसने पहली बार परिचय में चित्रकला के शुरुआती रूपों को शामिल किया। <ref>{{Cite web|url=http://discoverdag.com/artists/madhvi-parekh/|title=MADHVI PAREKH {{!}} Discover DAG|website=discoverdag.com|language=en-US|access-date=2018-03-03}}</ref> अपने विवाहित जीवन के शुरुआती दिनों में, उनके कलाकार-पति, मनु पारेख ने माधवी को एक स्वीस् जर्मन कलाकार <ref>{{Cite web|url=https://www.indiatoday.in/lifestyle/culture/story/madhvi-parekh-artist-art-exhibition-delhi-manu-paul-klee-lifest-1075713-2017-11-04|title=Here's why Madhvi Parekh is an artist of her own making|date=2017-11-04|website=India Today|language=en-US|access-date=2018-03-03}}</ref> [[पाल क्ली|पॉल क्ले]] द्वारा पेडागोगिकल स्केचबुक नामक एक पुस्तक भेंट की, जिसने उनकी शैली पर एक प्रारंभिक प्रभाव बनाया। पारेख के प्रभावों में इतालवी समकालीन कलाकार फ्रांसेस्को क्लेमेंटे भी शामिल हैं।
 
1,183

सम्पादन