"राम नवमी" के अवतरणों में अंतर

247 बैट्स् जोड़े गए ,  1 वर्ष पहले
Kostas20142 (वार्ता) के अवतरण 4642571पर वापस ले जाया गया (ट्विंकल)
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन यथादृश्य संपादिका
(Kostas20142 (वार्ता) के अवतरण 4642571पर वापस ले जाया गया (ट्विंकल))
टैग: किए हुए कार्य को पूर्ववत करना
{{Infobox holiday
|holiday_name = राम नवमी
}}
 
'''रामनवमी'''<ref>{{Cite web|url=https://www.thehinduopinion.com/2020/02/what-message-does-life-of-lord-rama-and.html|title=Lord Rama Life Lessons|last=Hindu|first=The|date=|website=The Hindu|archive-url=|archive-date=|dead-url=|access-date=}}</ref> का त्यौहार [[चैत्र]] मास के शुक्ल पक्ष की [[नवमी]] मनाया जाता [https://www.thehinduopinion.com/2020/02/what-message-does-life-of-lord-rama-and.html है]। [[हिन्दू धर्म|हिंदू]] धर्मशास्त्रों के अनुसार इस दिन मर्यादा-पुरूषोत्तम भगवान [[राम|श्री राम]] जी का जन्म हुआ था। <ref>[http://hindi.webdunia.com/religion-sanatandharma-history/%E0%A4%AA%E0%A5%8D%E0%A4%B0%E0%A4%AD%E0%A5%81-%E0%A4%B6%E0%A5%8D%E0%A4%B0%E0%A5%80%iE0%A4%B0%E0%A4%BE%E0%A4%AE-%E0%A4%95%E0%A5%80-%E0%A4%85%E0%A4%B8%E0%A4%B2%E0%A5%80-%E0%A4%9C%E0%A4%A8%E0%A5%8D%E0%A4%AE-%E0%A4%A6%E0%A4%BF%E0%A4%A8%E0%A4%BE%E0%A4%82%E0%A4%95-1140408047_1.htm राम जन्म ], वेबदुनियाँ</ref>
 
:''चैत्रे नवम्यां प्राक् पक्षे दिवा पुण्ये पुनर्वसौ ।sahil 👏👏👏''
:''उदये गुरुगौरांश्चोः स्वोच्चस्थे ग्रहपञ्चके ॥''
:''मेषं पूषणि सम्प्राप्ते लग्ने कर्कटकाह्वये ।''
 
== आदि राम ==
[[कबीर|कबीर साहेब]] जी '''आदि राम''' की परिभाषा बताते है की आदि राम वह अविनाशी परमात्मा है जो सब का सृजनहार व पालनहार है। जिसके एक इशारे पर‌ धरती और आकश काम करते हैं जिसकी स्तुति में तैंतीस कोटीकरोड़ देवी-देवता नतमस्तक रहते हैं। जो पूर्ण मोक्षदायक व स्वयंभू है।<ref>{{Cite web|url=https://news.jagatgururampalji.org/ram-navami-2020-hindi/|title=आदि राम की जानकारी|last=|first=|date=|website=SA NEWS Channel|archive-url=|archive-date=|dead-url=|access-date=}}</ref><blockquote>''"एक राम दशरथ का बेटा, एक राम घट घट में बैठा, एक राम का सकल उजियारा, एक राम जगत से न्यारा"।।''</blockquote>
 
==रामनवमी का महत्व==
यज्ञ समाप्ति के बाद महर्षि ने दशरथ की तीनों पत्नियों को एक-एक कटोरी खीर खाने को दी। खीर खाने के कुछ महीनों बाद ही तीनों रानियाँ गर्भवती हो गयीं। ठीक 9 महीनों बाद राजा दशरथ की सबसे बड़ी रानी [[कौशल्या]] ने राम को जो भगवान [[विष्णु]] के सातवें अवतार थे, [[कैकेयी|कैकयी]] ने [[भरत]] को और [[सुमित्रा]] ने जुड़वा बच्चों [[लक्ष्मण]] और [[शत्रुघ्न]] को जन्म दिया। भगवान राम का जन्म धरती पर दुष्ट प्राणियों को खत्म करने के लिए हुआ था।<ref name=":0" />
 
==सन्दर्भ==
<br />
{{टिप्पणीसूची}}
 
[[श्रेणी:भारत में त्यौहार]]
[[श्रेणी:हिन्दू धर्म]]