"सेवा राम यात्री" के अवतरणों में अंतर

सम्पादन सारांश रहित
(पाठ में सुधार (छोटा))
'''उनकी प्रमुख कृतियाँ हैं:'''
*'''उपन्यास :''' दराजों में बंद दस्तावेज, लौटते हुए, कई अँधेरों के पार, अपरिचित शेष, चाँदनी के आरपार, बीच की दरार, टूटते दायरे, चादर के बाहर, प्यासी नदी, भटका मेघ, आकाशचारी, आत्मदाह, बावजूद, अंतहीन, प्रथम परिचय, जली रस्सी, युद्ध अविराम, दिशाहारा, बेदखल अतीत, सुबह की तलाश, घर न घाट, आखिरी पड़ाव, एक जिंदगी और, अनदेखे पुल, कलंदर, सुरंग के बाहर।<ref>[http://pustak.org/bs/home.php?bookid=4077 उपन्यास, घर न घाट, लेखक: से रा यात्री, प्रकाशक : स्वास्तिक प्रकाशन, आईएसबीएन : 0000, प्रकाशित : फरवरी ०६, १९९६, मुखपृष्ठ : सजिल्द]</ref><ref>पुस्तक का नाम: युद्ध अविराम, लेखक: से॰ रा॰ यात्री, प्रकाशक: क्षितिज, आई एस बी एन (10) : 8188857475, आई एस बी एन (13): 9788188857470, प्रकाशन वर्ष: 2006, पृष्ठ 176, मुखपृष्ठ: सजिल्द</ref>
*'''कहानी संग्रह :''' केवल पिता, धरातल, अकर्मक क्रिया, टापू पर अकेले, दूसरे चेहरे, अलग-अलग अस्वीकार, काल विदूषक, सिलसिला, अकर्मक क्रिया, खंडित संवाद, नया संबंधसम्बंध, भूख तथा अन्य कहानियाँ, अभयदान, पुल टूटते हुए, विरोधी स्वर, खारिज और बेदखल, परजीवी।
*'''व्यंग्य संग्रह :''' किस्सा एक खरगोश का, दुनिया मेरे आगे।
*'''संस्मरण :''' लौटना एक वाकिफ उम्र का।<ref>[http://pustak.org/home.php?author_name=S.%20R.%20yatri भारतीय ज्ञानपीठ से प्रकाशित से.रा.यात्री की कृतियों का विवरण]</ref><ref>[http://www.amanprakashan.com/forth_coming.php अमन प्रकाशन की सूची जिसमें से र यात्री की दो पुस्तकों क्रमश: नदी पीछे नहीं मुड़ती (उपन्यास) और विदा की तकलीफ (कहानी संग्रह) की चर्चा]</ref>