"शिशु": अवतरणों में अंतर

5,029 बाइट्स हटाए गए ,  2 वर्ष पहले
छो
unexplained addition/removal of unsourced huge text, Tendentious editing, wrong translations from other languages
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल एप सम्पादन Android app edit
छो (unexplained addition/removal of unsourced huge text, Tendentious editing, wrong translations from other languages)
टैग: वापस लिया
 
जब तक शिशु स्वयं शौचालय जाने के लिए प्रशिक्षित होते है, वो [[लंगोट]], पोतड़ा या [[डाइपर]] (औद्योगीकृत देशों में) पहनते हैं।
नवजात अर्भक की विष्ठा
बच्चे वयस्कों की तुलना में अधिक सोते है पर जैसे- जैसे उनकी आयु बढ़ती है उनके नींद के समय में[[निंद्राकाल]] मे गिरावट आती है। नवजात शिशुओं के लिए 18 घंटे तक की नींद की आवश्यकता होती है। जब तक बच्चेंबच्चे चलना सीखते हैं उन्हें गोद मेंमे उठाया जाता है। इसके अतिरिक्त उन्हें बच्चागाड़ी या प्राम मे भी बैठा कर या लिटा कर एक स्थान से दूसरे स्थान पर ले जाया जाता है।
शिशु प्रथम शी (विष्ठा) करता है वह हरी थोडी काले रंग की होती है। पहले दो से तीन दिन यह रंग ऐसा ही होता है। प्रथम शी करने का समय जन्म देने पर ४८ घंटे तक कभी भी रह सकता है। ४ से ५ दिन में काला रंग जाकर पिली रंग की शी होने लगती है। इसमें शिशु शिशु में काफी फरक होता है। कुछ शिशु दिन भर में १२-१५ बार भी शी करते हैं। तो कुछ ४ से ७ दिन में एक बार शी करते हैं। पीली और मध्यम पतली शी होती है तो चिंता करने का कारण नही होता है।
बच्चे वयस्कों की तुलना में अधिक सोते है पर जैसे-जैसे उनकी आयु बढ़ती है उनके नींद के समय में[[निंद्राकाल]] मे गिरावट आती है। नवजात शिशुओं के लिए 18 घंटे तक की नींद की आवश्यकता होती है। जब तक बच्चें चलना सीखते हैं उन्हें गोद में उठाया जाता है। इसके अतिरिक्त उन्हें बच्चागाड़ी या प्राम मे भी बैठा कर या लिटा कर एक स्थान से दूसरे स्थान पर ले जाया जाता है।
 
अधिकतर विकसित देशों मे कानूनन मोटर वाहनों में शिशुओं को सिर्फ उनके लिए विशेष रूप से बनी सुरक्षा सीट मे ही बिठाया जाताजा सकता है।
 
'''बालक के जन्म के समय ली जाने वाली सावधानियाँ'''
शिशु का सिर बाहर आनेपर बाकी का शरीर पूर्ण बाहर आने की राह न देखते शिशु का श्वसनमार्ग साफ करना चाहिए।
शिशु को उलटा मत पकडों
शिशु पर पाणी मारना नही चाहिए।
मुँह, गला स्रावनली साफ करना चाहिए। म्यूकस नली नही है तो साफ नरम सुती कपडा अँगुली में लपेट कर शिशु के गले में अँगुली घुमाकर साफसफाई करनी चाहिए।
शिशु बाहर आनेपर नाल, नाडी चेक करके वह नाल काटनी चाहिए.
तब तक शिशु तुरंत सूखा करना चाहिए।
उसके बाद तुरंत गरमी देनेवाले कपडे में लपेट कर रखें। एेसा न करने पर र शिशु के शरीर का तापमान कम होने की संभावना होती है।
शिशु को गेल गोल न घुमाएं।
'''नवजात अर्भक का श्वसन और रक्ताभिसरण'''
जन्म के बाद स्वतंत्र श्वसनक्रिया शुरू होना यह शिशु के लिए सबसे महत्त्वपूर्ण कार्य है। श्वसन का मार्ग साफ होकर शिशु जन्म के उपरांत रोता है। तब श्वसन स्वतंत्र रूप से शुरू होता है।
 
पहली बार रोने के बाद शांत हुए शिशु का श्वसन रेट औसत प्रत्येक मिनिट को ३० से ४० इतना होता है। उसमें अनियमित लय हो सकती है।
त्वचाका रंग गुलाबी होता है। श्वसन के बाद अथवा हृदय और रक्ताभिसरणात कुछ दोष हो तो शिशु के होंठ, आँखों के नीचे का भाग, हाथ, पैर और नाखून इन पर निली झाक होती है।
कभी कभी शिशु सफेद और निस्तेज दिखता है। यदि ऐसा हो तो शिशु को अस्पताल ले जाना चाहिए।
श्वसनक्रिया में यदि कुछ दोष हो तो श्वसन के समय शिशु के नथुने फुलते है, छाती की पसलियाँ अंदर खींची जाती है(Grunting) और ठोडी और गर्दन उपर-नीचे होती है।
श्वसन में ज्यादा गंभीर दोष होगा तो श्वास छोड़ते समय शिशु कर्हाता है।
नवजात अर्भकाची की विष्ठा
बाळ प्रथम शी (विष्ठा) करते ती हिरवट-काळसर रंगाची असते. पहिले दोन ते तीन दिवस हा रंग टिकतो. प्रथम शी करण्याची
[[श्रेणी:मानव जीवन]]
[[श्रेणी:शैशव]]
10,873

सम्पादन