"हैदराबाद के निजाम" के अवतरणों में अंतर

→‎top: {{अनेक समस्याएँ}} → {{Multiple issues}} एवं सामान्य सफाई
({{अनेक समस्याएँ}} निम्न प्राचलों के साथ: दृष्टिकोण जाँच, प्रतिलिपि सम्पादन, विकिफ़ाइ और स्रोतहीन, {{खराब अनुवाद}} जोड़े, {{बड़े सम्पादन}} जोड़े, {{वैश्वीकरण}} जोड़े, {{श्रेणी कम}} जोड़े और {{सिर्फ़ कहानी}} जोड़े (ट्विंकल))
(→‎top: {{अनेक समस्याएँ}} → {{Multiple issues}} एवं सामान्य सफाई)
 
{{Multiple issues|
{{अनेक समस्याएँ|दृष्टिकोण जाँच=सितंबर 2019|प्रतिलिपि सम्पादन=सितंबर 2019|विकिफ़ाइ=सितंबर 2019|स्रोतहीन=सितंबर 2019}}
{{दृष्टिकोण जाँच|date=सितंबर 2019}}
{{प्रतिलिपि सम्पादन|date=सितंबर 2019}}
{{विकिफ़ाइ|date=सितंबर 2019}}
{{स्रोतहीन|date=सितंबर 2019}}
{{खराब अनुवाद|date=सितंबर 2019}}
{{बड़े सम्पादन|date=सितंबर 2019}}
{{वैश्वीकरण|date=सितंबर 2019}}
{{सिर्फ़ कहानी|date=सितंबर 2019}}
}}
मीर उस्मान अली ख़ान
हैदराबाद के सातवें निज़ाम
संपादित करें
सं १९६५ में भारत-चीन युद्ध के चलते निज़ाम से स्थापित राष्ट्रीय रक्षा कोष में योगदान देने का अनुरोध किया गया। सं १९६५ में, मीर उस्मान अली खान ने युद्ध के फंड के प्रति पांच टन - यानि ५००० किलो सोना दान दिया। मौद्रिक शर्तों में, आज के बाजार मूल्य के रूप में निजाम का योगदान करीब 1500 करोड़ रुपये था यह भारत में किसी भी व्यक्ति या संगठन द्वारा अब तक का सबसे बड़ा योगदान है।[25]
 
 
 
दिल्ली के जामा मस्जिद को दान
24,239

सम्पादन