"जयदेव" के अवतरणों में अंतर

3 बैट्स् नीकाले गए ,  9 माह पहले
सम्पादन सारांश रहित
छो (बॉट: पुनर्प्रेषण ठीक कर रहा है)
जयदेव ने राधाकृष्ण की, [[शृंगार रस]] से परिपूर्ण भक्ति का महिमागान एवं प्रचार किया। जयदेव के राधाकृष्ण सर्वत्र एवं पूर्णत: निराकार हैं। वे शाश्वत चैतन्य-सौन्दर्य की साक्षात अभिव्यक्ति हैं। अपनी काव्य रचनाओं में जयदेव ने राधाकृष्ण की व्यक्त, अव्यक्त, प्रकट एवं अप्रकट- सभी तरह की लीलाओं का भव्य वर्णन किया है।
 
== संबंधित कड़ियाँ =13=
 
*[[गीतगोविन्द]]
 
2

सम्पादन