"शुंग राजवंश" के अवतरणों में अंतर

655 बैट्स् जोड़े गए ,  8 माह पहले
छो
47.247.6.251 (वार्ता) के 1 संपादन वापस करके 47.247.119.30के अंतिम अवतरण को स्थापित किया (ट्विंकल)
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन
छो (47.247.6.251 (वार्ता) के 1 संपादन वापस करके 47.247.119.30के अंतिम अवतरण को स्थापित किया (ट्विंकल))
टैग: किए हुए कार्य को पूर्ववत करना
वसुमित्र के बाद भद्रक, पुलिंदक, घोष तथा फिर वज्रमित्र क्रमशः राजा हुए। इसके शाशन के १४वें वर्ष में तक्षशिला के यवन नरेश एंटीयालकीड्स का राजदूत हेलियोंडोरस उसके विदिशा स्थित दरबार में उपस्थित हुआ था। वह अत्यन्त विलासी शाशक था। उसके अमात्य वसुदेब [[कण्व वंश|कण्व]] ने उसकी हत्या कर दी। इस प्रकार शुंग वंश का अन्त हो गया।
 
=== महत्व ===
बौद्ध धर्म विश्व का सबसे अच्छा मानवतावादी धर्म है इसे शुंग वंश में साफ करने का प्रयास किया गया
इस वंश के राजाओं ने मगध साम्रज्य के केन्द्रीय भाग की विदेशियों से रक्षा की तथा मध्य भारत में शान्ति और सुव्यव्स्था की स्थापना कर विकेन्द्रीकरण की प्रवृत्ति को कुछ समय तक रोके रखा। मौर्य साम्राज्य के ध्वंसावशेषों पर उन्होंने वैदिक संस्कृति के आदर्शों की प्रतिष्ठा की। यही कारण है कि उसका शासनकाल वैदिक पुनर्जागरण का काल माना जाता है।
 
=== विदर्भ युद्ध ===