"पद्म पुराण": अवतरणों में अंतर

8 बाइट्स हटाए गए ,  2 वर्ष पहले
छो (117.194.127.152 (Talk) के संपादनों को हटाकर Xoloitzcuintle के आखिरी अवतरण को पूर्ववत किया)
टैग: प्रत्यापन्न
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब संपादन
'''3.स्वर्ग खण्ड''': स्वर्ग खण्ड में स्वर्ग की चर्चा है। मनुष्य के ज्ञान और भारत के तीर्थों का उल्लेख करते हुए तत्वज्ञान की शिक्षा दी गई है।
 
'''4. ब्रह्म खण्ड''': इस खण्ड में पुरुषों के कल्याण का सुलभ उपाय धर्म आदि की विवेचन तथा निषिद्ध तत्वों का उल्लेख किया गया है। पाताल खण्ड में राम के प्रसंग का कथानक आया है। इससे यह पता चलता है कि भक्ति के प्रवाह में विष्णु और राम में कोई भेद नहीं है। उत्तर खण्ड में भक्ति के स्वरूप को समझाते हुए योग और भक्ति की बात की गई है। साकार की उपासना पर बल देते हुए जलंधर के कथानक को विस्तार से लिया गया है।
 
'''5.पाताल खण्ड''': इस खण्ड में राम के प्रसंग का कथानक आया है। इससे यह पता चलता है कि भक्ति के प्रवाह में विष्णु और राम में कोई भेद नहीं है
'''5.पाताल खण्ड''':
 
'''6.उत्तर खण्ड''':उत्तर खण्ड में भक्ति के स्वरूप को समझाते हुए योग और भक्ति की बात की गई है। साकार की उपासना पर बल देते हुए जलंधर के कथानक को विस्तार से लिया गया है।
'''6.उत्तर खण्ड''':
 
'''7.क्रियायोगसार खण्ड''': क्रियायोग सार खण्ड में कृष्ण के जीवन से सम्बन्धित तथा कुछ अन्य संक्षिप्त बातों को लिया गया है। इस प्रकार यह खण्ड सामान्यत: तत्व का विवेचन करता है।