"तिथियाँ" के अवतरणों में अंतर

2 बैट्स् नीकाले गए ,  2 वर्ष पहले
पन्चमि
छो (बॉट: पुनर्प्रेषण ठीक कर रहा है)
(पन्चमि)
टैग: Reverted मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन
# तृतीया- चूँकि गौरी इसकी स्वामिनी है, अतः उनका सबसे महत्वपूर्ण व्रत हरितालिका तीज भाद्रपद शुक्ल पक्ष की तृतीया को ही महिलाएँ करती हैं।
# चतुर्थी- गणेश या विनायक चतुर्थी सर्वत्र विख्यात है। यह इसलिए चतुर्थी को ही होती है, क्योंकि चतुर्थी के देवता गणेश हैं।
# पंचमी- पंचमी के देवता नाग हैं, अतः श्रावण में कृष्ण पक्ष और शुक्ल पक्ष की दोनों चतुर्थीपन्चमी को नागों तथा मनसा (नागों की माता) की पूजा होती है।
# षष्ठी- स्वामी कार्तिक की पूजा षष्ठी को होती है।
# सप्तमी- देश-विदेश में मनाया जाने वाला सर्वप्रिय त्योहार प्रतिहार षष्ठी व्रत (डालाछठ) यद्यपि षष्ठी और स्वामी दोनों दिन मनाया जाता है, किंतु इसकी प्रधान पूजा (और उदयकालीन सूर्यार्घदान) सप्तमी में ही किया जाता है। छठ पर्व के निर्णय में सप्तमी प्रधान होती है और षष्ठी गौण। यहाँ ज्ञातव्य है कि सप्तमी के देवता सूर्य हैं।
बेनामी उपयोगकर्ता