"सत्यवती" के अवतरणों में अंतर

38 बैट्स् जोड़े गए ,  6 माह पहले
छो (117.205.117.100 (वार्ता) के 1 संपादन वापस करके सौरभ तिवारी 05के अंतिम अवतरण को स्थापित किया (ट्विंकल))
टैग: किए हुए कार्य को पूर्ववत करना
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन
 
देवव्रत ने अपनी माता सत्यवती को लाकर अपने पिता शान्तनु को सौंप दिया। पिता ने प्रसन्न होकर पुत्र से कहा, "वत्स! तूने पितृभक्ति के वशीभूत होकर ऐसी प्रतिज्ञा की है जैसी कि न आज तक किसी ने किया है और न भविष्य में करेगा। मैं तुझे वरदान देता हूँ कि तेरी मृत्यु तेरी इच्छा से ही होगी। तेरी इस प्रकार की प्रतिज्ञा करने के कारण तू भीष्म कहलायेगा और तेरी प्रतिज्ञा भीष्म प्रतिज्ञा के नाम से सदैव प्रख्यात रहेगी।"
Mahavsrat, Samcawa larva, 100 adhyay
 
== धृतराष्ट्र, पाण्डु तथा विदुर का जन्म ==
बेनामी उपयोगकर्ता