"आर्य आष्टांगिक मार्ग" के अवतरणों में अंतर

312 बैट्स् जोड़े गए ,  1 वर्ष पहले
छो
महात्मा शब्द को हटाकर वास्तविक सम्बोधन "भगवा से उत्पन्न शब्द भगवान" किया है ।
छो
छो (महात्मा शब्द को हटाकर वास्तविक सम्बोधन "भगवा से उत्पन्न शब्द भगवान" किया है ।)
{{स्रोतहीन|date=जून 2015}}
[[आर्य आष्टांगिक मार्ग|'''अष्टांग मार्ग''']] [[गौतमगोतम बुद्ध|महात्माभगवान बुद्ध]][1[[[[< ref सुत्त पिटक,अनुगुत्तर निकाय, एकक निपात ,सुत्त संख्या -1.1]]]]] की प्रमुख शिक्षाओं में से एक है जो दुखों से मुक्ति पाने एवं आत्मतथ्य-ज्ञान[2[[< ref सुत्त पिटक,अनुगुत्तर निकाय, एकक निपात ,सुत्त संख्या -175 to 185.]]] के साधन के रूप में बताया गया है।<ref name="गौतम बुद्ध">[https://www.motivatorindia.in/2019/09/gautam-buddha-in-hindi.html गौतम बुद्ध का सम्पूर्ण जीवन]</ref> अष्टांग मार्ग के सभी 'मार्ग' , 'सम्यक' शब्द से आरम्भ होते हैं (सम्यक = अच्छी या सही)। बौद्ध प्रतीकों में प्रायः अष्टांग मार्गों को [[धर्मचक्र]] के आठ ताड़ियों (spokes) द्वारा निरूपित किया जाता है।
{{बौद्ध धर्म}}
 
24

सम्पादन