"उत्तरकाण्ड" के अवतरणों में अंतर

219 बैट्स् नीकाले गए ,  6 माह पहले
छो
2405:205:1287:632D:4120:1818:892E:261E (वार्ता) के 1 संपादन वापस करके सौरभ तिवारी 05के अंतिम अवतरण को स्थापित किया (ट्विंकल)
छो (2405:205:1287:632D:4120:1818:892E:261E (वार्ता) के 1 संपादन वापस करके सौरभ तिवारी 05के अंतिम अवतरण को स्थापित किया (ट्विंकल))
टैग: किए हुए कार्य को पूर्ववत करना
# [http://wikisource.org/wiki/रामायण_युद्धकाण्ड वाल्मीकि रामायण - युद्धकाण्ड का मूल पाठ] (विकीस्रोत पर)
# [http://wikisource.org/wiki/रामायण_उत्तरकाण्ड वाल्मीकि रामायण - उत्तरकाण्ड का मूल पाठ] (विकीस्रोत पर)
'''[https://sites.google.com/site/kavitahindikavita/ramcharitmanas-tulsidas सम्पूर्ण रामचरितमानस तुलसीदास जी रचित]'''{{साँचा:श्री राम चरित मानस}}बैनतेय सुनु संभु तब आए जहँ रघुबीर।
 
== बाहरी कड़ी ==
'''[https://sites.google.com/site/kavitahindikavita/ramcharitmanas-tulsidas सम्पूर्ण रामचरितमानस तुलसीदास जी रचित]'''{{साँचा:श्री राम चरित मानस}}बैनतेय सुनु संभु तब आए जहँ रघुबीर।
 
बिनय करत गदगद गिरा पूरित पुलक सरीर।।13ख।।