"कुशीनगर" के अवतरणों में अंतर

1,026 बैट्स् जोड़े गए ,  2 माह पहले
छो
मुख्य पृष्ठ में ऐतिहासिक तथ्यों को लेकर कुछ आवश्यक तथ्यों को जोड़ने के उद्देश्य से इस लेख में हमारे द्वरा एक संक्षिप्त संशोधन किया गया है। अतः विनम्र आग्रह है इस संशोधन को स्वीकार किया जाये।
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन
छो (मुख्य पृष्ठ में ऐतिहासिक तथ्यों को लेकर कुछ आवश्यक तथ्यों को जोड़ने के उद्देश्य से इस लेख में हमारे द्वरा एक संक्षिप्त संशोधन किया गया है। अतः विनम्र आग्रह है इस संशोधन को स्वीकार किया जाये।)
 
''यह पन्नापृष्ठ कुशीनगर नामक स्थान के बारे में है जो एक पालि-बौद्धऐतिहासिक क्षेत्र तीर्थस्थल है। भारतीय इतिहास में कुशीनगर का महत्वपूर्व स्थान है साथ ही इस स्थान का प्राचीन नाम कुशावती है। प्रशासनिक जनपद के लिये देखें '''[[कुशीनगर जिला]]'''''
 
----
| skyline_caption = '''परिनिर्वाण मंदिर''' के निकट खुदाई में मिली '''बुद्ध प्रतिमा'''
}}
'''कुशीनगर''' एवं '''कसया बाजार''' [[उत्तर प्रदेश]] के उत्तरी-पूर्वी सीमान्त इलाके में स्थित एक क़स्बा एवं ऐतिहासिक स्थल है। वर्तमान में यह [[कुशीनगर जिला|कुशीनगर जिले]] के अन्तर्गत आता है। "कसया बाजार" नाम कुशीनगर में बदल गया है और उसके बाद "कसया बाजार" आधिकारिक तौर पर "कुशीनगर" नाम के साथ नगर पालिका बन गया है। यह [[बौद्ध धर्म|बौद्ध]] [[तीर्थस्थान|तीर्थस्थल]] है जहाँ [[गौतम बुद्ध]]कुशीनगर का [[महापरिनिर्वाण]]इतिहास हुआकाफी था।समृद्ध कुशीनगर, [[राष्ट्रीय राजमार्ग २८ (भारत)|राष्ट्रीय राजमार्ग २८]] पर [[गोरखपुर]] से लगभग ५० किमी पूरब में स्थित है। यहाँ अनेक सुन्दर बौद्ध मन्दिर हैं। इस कारण से यह एक अन्तरराष्ट्रीय पर्यटन स्थल भी है जहाँ विश्व भर के बौद्ध तीर्थयात्री भ्रमण के लिये आते हैं। कुशीनगर कस्बे के और पूरब बढ़ने पर लगभग २० किमी बाद [[बिहार]] राज्य आरम्भएवं होगौरवशाली जातारहा है।
त्रेतायुग में भगवान राम के दो पुत्र लव और कुश थे, जिसमे कुश के द्वारा ही इस प्राचीन नगरी कुशावती को बसाया गया था। [[वाल्मीकि रामायण]] में कुश के द्वारा कुशावती नगर के निर्माण का वर्णन मिलता है। आज वर्तमान में उन्ही कुश के वंसज [[कुशवाहा]] [[कच्छवाह]] नाम से प्रसिद्ध है।
 
यह [[बौद्ध धर्म|बौद्ध]] [[तीर्थस्थान|तीर्थस्थल]] है जहाँ [[गौतम बुद्ध]] का [[महापरिनिर्वाण]] हुआ था। कुशीनगर, [[राष्ट्रीय राजमार्ग २८ (भारत)|राष्ट्रीय राजमार्ग २८]] पर [[गोरखपुर]] से लगभग ५० किमी पूरब में स्थित है। यहाँ अनेक सुन्दर बौद्ध मन्दिर हैं। इस कारण से यह एक अन्तरराष्ट्रीय पर्यटन स्थल भी है जहाँ विश्व भर के बौद्ध तीर्थयात्री भ्रमण के लिये आते हैं। कुशीनगर कस्बे के और पूरब बढ़ने पर लगभग २० किमी बाद [[बिहार]] राज्य आरम्भ हो जाता है।
 
यहाँ बुद्ध स्नातकोत्तर महाविद्यालय, बुद्ध इण्टरमडिएट कालेज, महर्षि अरविन्द विद्या मंदिर तथा कई छोटे-छोटे विद्यालय भी हैं। कुशीनगर के आस-पास का क्षेत्र मुख्यत: कृषि-प्रधान है। जन-सामन्य की बोली [[भोजपुरी भाषा|भोजपुरी]] है। यहाँ [[गेहूँ]], [[धान]], [[गन्ना]] आदि मुख्य फसलें पैदा होतीं हैं।
3

सम्पादन