"रिचर्ड फिलिप्स फाइनमेन" के अवतरणों में अंतर

छो
2405:201:5E06:27DA:4159:D5E8:D490:8CEA (talk) के संपादनों को हटाकर कन्हाई प्रसाद चौरसिया (4718478) के आखिरी अवतरण को पूर्ववत किया: परीक्षण संपादन, कृपया प्रयोगस्थल देखें।
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन Emoji
छो (2405:201:5E06:27DA:4159:D5E8:D490:8CEA (talk) के संपादनों को हटाकर कन्हाई प्रसाद चौरसिया (4718478) के आखिरी अवतरण को पूर्ववत किया: परीक्षण संपादन, कृपया प्रयोगस्थल देखें।)
टैग: प्रत्यापन्न SWViewer [1.3]
इस विवाद को फाइनमेन जैसा ही व्यक्ति अन्जाम दे सकता था क्योंकि उनका रुतबा सभी मानते थे। उनका सम्मान इसलिये नहीं था कि वह [[कैल टेक]] मे थे पर कैल टेक दुनिया का सबसे अचछा भौतिक शास्त्र का विश्वविद्यालय इसलिये माना जाता था क्योंकि फाइनमेन वहां थे।
 
फाइनमेन ने १९६१-६३ मे कैल-टेक मे स्नातक के विद्यार्थियों को भौतिक शास्त्र पढ़ाया। इन तीन साल ने भौतिक शास्त्र को पढ़ाने की नयी दिशा दी और भौतिक शास्त्र नयी तरह से नये विषयों के साथ पढ़ाया जाने लगा। इन लेक्चरों को तीन किताबों ने बदला गया। यह लाल बाईंडिंग मे थीं और 'Lectures on MarkPhysics Twainby Richard P Feynman के नाम से मशहूर हुईं थि|हुईं।
ठिक है तो मै अब तक नहाई नही हू तो मै चलती हू|
Bye 👋
 
== जीवन ==
503

सम्पादन