"ओंकारेश्वर मन्दिर" के अवतरणों में अंतर

1,157 बैट्स् नीकाले गए ,  1 वर्ष पहले
छो
2409:4041:2E82:4303:9386:18C:2323:D431 (Talk) के संपादनों को हटाकर EatchaBot के आखिरी अवतरण को पूर्ववत किया
(इसमें एक स्तुति लगाई गई है ओर उसका अर्थात भी लगाया गया है। और में इसमे से backlink ली गई है।)
टैग: यथादृश्य संपादिका मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन
छो (2409:4041:2E82:4303:9386:18C:2323:D431 (Talk) के संपादनों को हटाकर EatchaBot के आखिरी अवतरण को पूर्ववत किया)
टैग: प्रत्यापन्न
इस ओंकार का भौतिक विग्रह ओंकार क्षेत्र है। इसमें 68 तीर्थ हैं। यहाँ 33 कोटि
देवता परिवार सहित निवास करते हैं तथा 2 ज्योतिस्वरूप लिंगों सहित 108 प्रभावशाली शिवलिंग हैं। मध्यप्रदेश में देश के प्रसिद्ध 12 ज्योतिर्लिंगों में से 2 ज्योतिर्लिंग विराजमान हैं। एक उज्जैन में महाकाल के रूप में और दूसरा ओंकारेश्वर में ओम्कारेश्वर- ममलेश्वर के रूप में विराजमान हैं।
 
'''आदि शंकराचार्य स्वामी ने शिवलिंग का वर्णन कुछ इस तरह किया है'''.[https://bharatvarshgyan.blogspot.com/2020/05/omkareshwar-temple-history.html]<blockquote>''कावेरिका नार्मद्यो: पवित्र समागमे सज्जन तारणाय |''
 
''सदैव मंधातत्रपुरे वसंतम,ओमकारमीशम्  शिवयेकमीडे ||''</blockquote>'''''अथार्त''''' :- कावेरी एवं नर्मदा नदी के पवित्र संगम पर सज्जनों के तारण के लिए, सदा ही मांधाता की नगरी में विराजमान [https://bharatvarshgyan.blogspot.com/2020/05/omkareshwar-temple-history.html श्री ओंकारेश्वर महादेेेवजी] जो स्वयंभू हैं वही ज्योतिर्लिंग है.[https://bharatvarshgyan.blogspot.com/ भारतवर्षज्ञान]
 
 
== इतिहास ==