"जानी दुश्मन (1979 फ़िल्म)" के अवतरणों में अंतर

2,420 बैट्स् जोड़े गए ,  1 वर्ष पहले
सम्पादन सारांश रहित
(→‎कलाकार: चिह्न)
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन
'''जानी दुश्मन''' 1979 में बनी [[हिन्दी|हिन्दी भाषा]] की फिल्म है।
 
== संक्षेप == हम लोगों के द्वारा देखी हुई सबसे डरावनी फिल्मों में से एक जानी दुश्मन है जिसे हम लोगों ने मिलकर 2017 में देखा जब मेरा 25 साल का भांजा यह फिल्म देखने लायक नहीं होगी यह कह रहा था सब रात में 9:00 बजे मैंने उसे यह फिल्म दिखाना चाहिए और पहले ही दिन से जो फिल्म ने समा बांधा भूत अमरीश पुरी अपनी पूरी शक्ति के साथ डराने में कामयाब रहे ट्रेन में उनका भूत बनना और के पहले भूतों के प्रकार बताना बेहद रोमांचक था इस फिल्म के सभी कलाकार सुनील दत्त शत्रुघ्न सिन्हा संजीव कुमार जितेंद्र विनोद मेहरा सब ने अपना काम बखूबी किया था और रीना राय रेखा बिंदिया नीतू सबके नृत्य गीत आज भी मनोहारी लगते हैं फिल्म क रहस्य गजब का है और यह फिल्म ए टू जेड बांधने में सक्षम है इनकी फोटोग्राफी के क्या कहने कितनी खूबसूरती से इतने पहलगाम के तीन को हम लोगों के समक्ष प्रस्तुत किया था संजीव कुमार का शैतान बनना अब भले हास्यास्पद लगता है तब तो लोगों की नींदे उड़ जाती थी डर के मारे चलो रे डोली उठाओ गाना जेपी चालू होता था अब एक दुल्हन मरने वाली है यह सोच कर डर के मारे भीगी बन जाती थी
== संक्षेप ==
यह फिल्‍म अपने समय की बेहद लोकप्रिय फिल्‍म थी। इसके सभी गाने खासकर चलो रे डोंली उठाओ कहार काफी लोकप्रिय रहे थे और आज भी इसके गीत लोगों को बरबस इसके ओर आकर्षित करते हैं। फिल्‍म का सबसे मनोरंजक और रोचकता थी हिरोइनों का एक एक कर मरना। फिल्‍म का शुरूआती दृश्‍य काफी डरावना और संस्‍पेंस पैदा करने वाला था।
 
बेनामी उपयोगकर्ता