"पुरुषार्थ" के अवतरणों में अंतर

185 बैट्स् जोड़े गए ,  6 माह पहले
सम्पादन सारांश रहित
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन उन्नत मोबाइल सम्पादन
{{आधार}}
[[हिन्दू धर्म]] में '''पुरुषार्थ''' से तात्पर्य मानव के लक्ष्य या उद्देश्य से है ('पुरुषैर्थ्यते इति पुरुषार्थः')। पुरुषार्थ = पुरुष+अर्थ = अर्थात मानव को 'क्या' प्राप्त करने का प्रयत्न करना चाहिए। प्रायः मनुष्य के लिये [[वेद|वेदों]] में चार '''पुरुषार्थों''' का नाम लिया गया है - [[धर्म]], [[अर्थ]], [[काम]] और [[मोक्ष]]। इसलिए इन्हें 'पुरुषार्थचतुष्टय' भी कहते हैं। महर्षि [[मनु]] पुरुषार्थ चतुष्टय के प्रतिपादक हैं।
पुरुषार्थ चतुष्टय में धर्म को ही सर्वश्रेष्ठ पुरुषार्थ माना जाता हैं
 
[[चार्वाक दर्शन]] केवल दो ही पुरुषार्थ को मान्यता देता है- अर्थ और काम। वह धर्म और मोक्ष को नहीं मानता।
महर्षि [[वात्स्यायन]] भी मनु के पुरुषार्थ-चतुष्टय के समर्थक हैं किन्तु वे मोक्ष तथा परलोक की अपेक्षा धर्म, अर्थ, काम पर आधारित सांसारिक जीवन को सर्वोपरि मानते हैं।
5

सम्पादन