"गर्भनिरोधक गोलियाँ" के अवतरणों में अंतर

12 बैट्स् नीकाले गए ,  1 वर्ष पहले
छो
अनुसंधानकर्ताओं ने करीब दस लाख महिलाओं के मेडिकल रिकॉर्ड्स को अध्ययन में शामिल किया. 15 से 34 साल की इन महिलाओं में किसी में पहले से डिप्रेसन के लक्षण मौजूद नहीं थे। अध्ययन में अनुसंधानकर्ताओं ने पाया कि जो महिलाएं गर्भनिरोधक गोलियों का इस्तेमाल करती हैं, उन्हें बाद में अवसाद की गोलियां लेनी पड़ी या फिर अस्पताल में भर्ती होना पड़ा.
 
सभी महिलाओं को <a href="[https://healthinhindi.net/garbh-nirodhak-tablet-ka-naam/"> गर्भनिरोधक गोली< a>] सूट नही करता है। किसी किसी को नुकसान भी पहुचाता है।
कुछ महिलाओं को उल्टी आना, चकर आना, जी मचलना , सिर में दर्द , स्तनों में सूजन या दर्द जैसे परेशानी देखा गया है। लेकिन इससे घबराना नहीं चाहिए।
इन परेशानियों का असर लंबे समय तक रहे तो नजदीकी डॉक्टर से जरूर सम्पर्क करें।
36

सम्पादन