"अहीरवाल" के अवतरणों में अंतर

3 बैट्स् नीकाले गए ,  1 वर्ष पहले
छो
2401:4900:126A:35AB:59A:FC1:BBDE:15F1 (Talk) के संपादनों को हटाकर Anony20 के आखिरी अवतरण को पूर्ववत किया
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन
छो (2401:4900:126A:35AB:59A:FC1:BBDE:15F1 (Talk) के संपादनों को हटाकर Anony20 के आखिरी अवतरण को पूर्ववत किया)
टैग: प्रत्यापन्न SWViewer [1.3]
===राव रूड़ा सिंह ===
{{main|राव रूड़ा सिंह}}
तिजारा के एक अहीर शासक [[राव रूड़ा सिंह]] ने मुग़ल शासक हुमायूँ से रेवाड़ी के जंगलों की जागीर अपनी kkप्रशंसनीयप्रशंसनीय सामरिक मदद के बदले में सन 1555 में हासिल की, थी।<ref>Man Singh, Abhirkuladipika Urdu (1900) Delhi, p.105, Krishnanand Khedkar, the Divine Heritage of the Yadavas, pp. 192-93; Krishnanand, Ahir Itihas, p.270</ref><ref>K.C. Yadav, 'History of the Rewari State 1555-1857; Journal of the Rajasthan Historical Research Society, Vol. 1(1965), p. 21</ref><ref name="S. D. S. Yadava">{{cite book | url=http://books.google.com/?id=p69GMA226bgC&pg=PA82&dq=ahir+ruler#v=onepage&q=ahir%20ruler&f=false | title=Followers of Krishna: Yadavas of India | publisher=Lancer Publishers, | author=S. D. S. Yadava | year=2006 | pages=82 | isbn=9788170622161}}</ref><ref>Man Singh, Abhirkuladipika Urdu (1900) Delhi, p.105,106</ref> रूड़ा सिंह ने रेवाड़ी से दक्षिण पूर्व में 12 किलोमीटर दूर बोलनी गाँव को अपना मुख्यालय बनाया।<ref>Krishnanand Khedkar, the Divine Heritage of the Yadavas, pp. 192-93; Krishnanand, Ahir Itihas, p.270.</ref> उन्होंने जंगलों को साफ करवा कर नवीन गावों की स्थापना की। <ref name="Mahendergarh1"/><ref>Man Singh, op. cit., 1900. pp. 105-6</ref>
 
===राव मित्रसेन अहीर===
249

सम्पादन