"उत्तरकाण्ड" के अवतरणों में अंतर

327 बैट्स् जोड़े गए ,  5 माह पहले
2402:8100:2045:A3B5:4201:B0FD:96DA:2059 (वार्ता) द्वारा किए बदलाव 4747406 को पूर्ववत किया
छो (106.223.182.128 (वार्ता) के 1 संपादन वापस करके 2402:8100:2045:A3B5:4201:B0FD:96DA:2059के अंतिम अवतरण को स्थापित किया (ट्विंकल))
टैग: किए हुए कार्य को पूर्ववत करना
(2402:8100:2045:A3B5:4201:B0FD:96DA:2059 (वार्ता) द्वारा किए बदलाव 4747406 को पूर्ववत किया)
टैग: किए हुए कार्य को पूर्ववत करना
 
[[उत्तरकाण्ड]] [[राम]] कथा का उपसंहार है। [[सीता]], [[लक्ष्मण]] और समस्त [[वानरसेना|वानर सेना]] के साथ [[राम]] [[अयोध्या]] वापस पहुँचे। [[राम]] का भव्य स्वागत हुआ, [[भरत]] के साथ सर्वजनों में आनन्द व्याप्त हो गया। वेदों और [[शिव]] की स्तुति के साथ [[राम]] का [[राज्याभिषेक]] हुआ। वानरों की विदाई दी गई। [[राम]] ने प्रजा को उपदेश दिया और प्रजा ने कृतज्ञता प्रकट की। चारों भाइयों के दो दो पुत्र हुये। [[रामराज्य]] ए आदर्श बन गया।
 
विशेष:- मूल वाल्मिकी रामायण में उत्तर काण्ड नहीं है। केवल युद्ध काण्ड सहित छः काण्ड हैं। उत्तर काण्ड को बाद में जोड़ा गया है।
 
== इन्हें भी देखें ==