"घराट" के अवतरणों में अंतर

101 बैट्स् जोड़े गए ,  5 माह पहले
Rescuing 1 sources and tagging 1 as dead.) #IABot (v2.0.1
छो (→‎परिचय: clean up, replaced: पांचजन्य → पाञ्चजन्य AWB के साथ)
(Rescuing 1 sources and tagging 1 as dead.) #IABot (v2.0.1)
 
 
==परिचय==
परम्परागत 'घराट' पर गांव-गांव में आटा पीसने का काम उस समय से यहां चल रहा है जब किसी ने [[वैकल्पिक ऊर्जा]] को एक अभियान के रूप में कभी लेने की कल्पना भी न की होगी। सूदूर गांवों में, जहां सड़क-बिजली जैसी सुविधाएं कभी पहुंची भी न थीं, वहां उस दौर में गांव से निकलने वाली जलधाराओं के सहारे आटा, मसाला, दाल पीसने का काम 'घराट' के सहारे चला करता था और आज भी चल रहा है। 'पनचक्की' अब केवल आटा-मसाले ही नहीं पीस रही बल्कि अब अपनी खुद की बिजली भी पैदा कर रही है। नैनीताल जिले में सडि़याताल के आस-पास ऐसे सोलह 'घराट' हैं जिनमें बिजली पैदाकर गांव वाले न सिर्फ अपने घर बल्कि आस-पास के घरों को भी रौशनी दे रहे हैं। भारत सरकार के वैकल्पिक ऊर्जा विभाग ने इन्हें आर्थिक अनुदान देकर बिजली उत्पादन के लिए प्रेरित किया है।<ref>[http://panchjanya.com//Encyc/2015/7/11/घराट-और-गोबर-से-जगमग--जीवन.aspx घराट और गोबर से जगमग जीवन]{{Dead link|date=जून 2020 |bot=InternetArchiveBot }} (पाञ्चजन्य)</ref>
 
==सन्दर्भ==
 
==बाहरी कड़ियाँ==
*[https://web.archive.org/web/20160305092221/http://bedupako.com/blog/2012/04/25/man-made-water-mill-in-peril/#axzz3fwbGVLKY मानव निर्मित एक उत्कृष्ट रचना 'घराट' या 'घट' का अस्तित्व खतरे में]
 
[[श्रेणी:ऊर्जा]]
1,05,299

सम्पादन